Breaking News

Tuesday, 1 March 2022

कैल नदी के तट पर बसे देवाल में तीन दिवसीय देवाल कौथिग का शुभारंभ


कैल नदी के तट पर बसे देवाल में तीन दिवसीय देवाल कौथिग का शुभारंभ


नवीन चन्दोला/केदारखण्ड एक्सप्रेस न्यूज़

देवाल। पिंडर एवं कैल नदी के तट पर बसे देवाल में महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर आयोजित तीन दिवसीय देवाल कौथिग का कलश यात्रा एवं उत्तराखंड की प्रसिद्ध छोरियां नृत्य के साथ रंगारंग आगाज हो गया है।इस मौके पर मेला मंच में प्रसिद्ध बधाणी लोक कला संस्कृति समिति सूना थराली के कलाकारों के द्वारा रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए।

गढ़वाल की पिंडर घाटी एवं कुमाऊं की कत्यूर घाटी के लोगों के बीच दशकों से मशहूर देवाल कौथिग सांस्कृतिक एवं पर्यटन मेले का शुभारंभ महाशिवरात्रि के पावन पर्व तीन दिवसीय अगाज के तहत देवाल, सेलखोल, इच्छोली, कैल, हाट कल्याणी के साथ ही हिमालयन पब्लिक स्कूल देवाल के द्वारा छौलिया नृत्य के साथ मेला मंच से देवाल बाजार, पूराना बाजार, शिव मंदिर, एसबीआई बाजार होते हुए वापस मंच तक भव्य यात्रा निकाली।

इसके बाद मंच पर देवाल के ब्लाक प्रमुख डॉ दर्शन दानू ने मेले का दीप प्रज्ज्वलित करते हुए विधिवत उद्घाटन किया। इस मौके पर मेला कमेटी के अध्यक्ष हरीश पांडे, महामंत्री जितेंद्र बिष्ट व सुरेंद्र खत्री, व्यापार संघ अध्यक्ष सुरेंद्र रावत, पूर्व प्रमुख उर्मिला बिष्ट, नंदी कुनियाल, पुष्पा नेगी, सांसद प्रतिनिधि नरेन्द्र बिष्ट, लखन रावत, महावीर बिष्ट, आलम सिंह बिष्ट, पिंडारी संघर्ष समिति के अध्यक्ष युवराज बसेड़ा, कमल गड़िया, सुरेंद्र सिंह बिष्ट, कैल के प्रधान जीवन मिश्रा, पूर्णा के मनोज कुमार, मेलखेत के उर्वीदत्त जोशी, लौसरी के अरविंद भंडारी, पूर्व जेष्ठ प्रमुख हरेंद्र कोटेड़ी, क्षेपंस पान सिंह तुलेरा, हीरा सिंह बिष्ट, हरीश गड़िया, कर्मचारी नेता कपूर मिश्रा आदि मौजूद थे।

इस मौके पर बधाणी संस्कृति समिति सूना थराली के कलाकारों के रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किए। देवाल कौथिंग हमें, अपनी पौराणिक सभ्यता की देती हैं जानकारी। देवाल कौथिंग का उद्घाटन करते हुए देवाल के ब्लाक प्रमुख डॉ दर्शन दानू ने कहा कि देवाल कौथिंग पौराणिक कौथिग है। इस मेले में कुमाऊं एवं गढ़वाल की एक साथ सांस्कृतिक, आर्थिक, सामाजिक झलक दिखाई पड़ती हैं। उन्होंने इस मेले को और अधिक विकसित बनाने के लिए सामुहिक जरूरत की आवश्यकता पर बल दिए जाने की बात कही।

No comments: