Char dham yatra
 

Breaking News

Friday, 7 January 2022

कांग्रेस के चुनाव प्रभारी तिलकराज शर्मा ने आखिर क्यों कहा पिछली बार गलती हुई थी, इस बार गलती नहीं होगा

कांग्रेस के चुनाव प्रभारी तिलकराज शर्मा ने आखिर क्यों कहा पिछली बार गलती हुई थी, इस बार गलती नहीं होगा


डैस्क : केदारखण्ड एक्सप्रेस न्यूज़

रूद्रप्रयाग। विधान सभा चुनावों को लेकर बेहद कम समय रह गया है जहाँ भाजपा कांग्रेस पर हमलावर है वहीं कांग्रेस में प्रत्याशियों की लड़ाई अपने ही पार्टी के प्रत्याशियों से होती नजर आ रही है। क्योंकि कांग्रेस के चुनाव प्रभारी तिलक राज शर्मा ने जो बयान दिया उससे लगता है रूद्रप्रयाग में कांग्रेस पार्टी में टिकटों के बंटवारें को लेकर अब खुल कर अंदर की बातें सामने आने लगी है। 

कांग्रेस चुनाव प्रभारी तिलकराज शर्मा ने जो बयान मीडिया को दिया उससे यही साबित हो रहा है।  तिलक राज शर्मा ने कहा कि पिछली बार 2017 के विधान सभा चुनावों में कांग्रेस पार्टी ने टिकट वितरण में गलती की है, वह इस बार उस गलती को नहीं दौहरायेंगे। इससे जाहिर होता है कि 2017 में कांग्रेस की जो प्रत्याशी थी यह इशारा उनकी तरफ किया गया। 

आपको बताते चले कि पिछली बार 2017 विधान सभा चुनाव में लक्ष्मी राणा को कांग्रेस ने विधायक का टिकट दिया था। ऐसे में तिलकराज शर्मा का बयान किस ओर इशारा कर रहा है इसे अधिक समझने की जरूरत नहीं है, लेकिन समझने की आवश्यकता यह है कि आखिर तिलक राज शर्मा खुलकर मीडिया के सामने इस तरह का बयान क्यों दे रहे हैं?

पहले आप तिलकराज शर्मा का ये बयान सुनिए-



दरअसल पिछले 20 से ज्यादा दिनों से चुनाव प्रभारी तिलकराज शर्मा रूद्रप्रयाग जनपद में डंटे हुए हैं, बूथ स्तर से लेकर क्षेत्र भ्रमण और कांग्रेस के सेवादल संगठन को मजबूत करने में जुटे हुए हैं जबकि हरेक कार्यकता से रायशुमारी से लेकर 2022 में कांग्रेस फतह की तैयारी कर रहे हैं। मगर तिलक राज शर्मा का यह बयान कहीं ना कहीं लक्ष्मी राणा की खुलेआम खिलाफत कर रहा है।  

दअसल रूद्रप्रयाग में कांग्रेस पार्टी से मातबर सिंह कण्डारी, लक्ष्मी राणा, प्रदीप थपलियाल, लक्ष्मण रावत, बीरेंद्र सिंह बुटोला, अर्जुन सिंह गहरवार, अंकुर रौथाण, नरेन्द्र बिष्ट प्रमुख रूप से कांग्रेस से दावेदारी कर रहे हैं। पिछली बार 2017 में लक्ष्मी राणा कांग्रेस से छः साल के लिए निष्कासित होने के बावजूद भी कांग्रेस का टिकट ले आई थी जबकि उन्हें भाजपा में मोदी लहर के बावजूद भी साढ़े पन्द्रह हजार वोट लाई थी। हालांकि यह सर्व विधित है कि हमेशा की तरह इस बार भी कांग्रेस के भीतर टिकट को लेकर जितने प्रत्याशी हैं उतने गुट बने हुए हैं मगर इस बार में अब तक खुले तौर पर प्रत्याशियों के बीच कोई मनमुटाव की खबरें नहीं आई हैं हालांकि टिकट वितरण के बाद स्थिति क्या होती है यह भविष्य के गर्भ में है किन्तु चुनाव प्रभारी के इस बयान से लक्ष्मीण राणा का खेमा जरूर नाराजगी व्यक्त कर सकता है।

No comments: