Breaking News

Sunday, 9 January 2022

नहीं रहे केदार घाटी के चाणक्य ध्यानसिंह जगवाण, बड़ी संख्या में लोगों ने दी श्रद्धाञ्जलि

Dyan singh jagwan


नहीं रहे केदार घाटी के चाणक्य ध्यानसिंह जगवाण, बड़ी संख्या में लोगों ने दी श्रद्धाञ्जलि


-कुलदीप राणा आजाद/रूद्रप्रयाग

रूद्रप्रयाग। जनपद रुद्रप्रयाग के निष्ठावान सामाजिक कार्यकर्ता ध्यानसिंह जगवाण Dhyan singh jagwan  का निधन हो गया है। आज बड़ी संख्या में स्थानीय लोगों ने उन्हें भावपूर्ण विदाई दी। उनकी अंत्येष्टि में परिजनों के अलावा बड़ी संख्या में जिले के सामाजिक, राजनीतिक, व्यापारी वर्ग के साथ ही स्थानीय जनसामान्य भी उपस्थित रहे। 84 वर्षीय ध्यानसिंह Dhyan singh jagwan  कुछ समय से बीमार चल रहे थे और कल उन्होंने अंतिम सांस ली।

कांग्रेस के कद्दावर नेताओं में शुमार ध्यानसिंह जगवाण सामाजिक सरोकारों के लिए अंतिम समय तक सक्रिय व संघर्षरत रहे। उन्हें राजनीति के चाणक्य के रूप में काफी प्रसिद्धि मिली। सतपाल महाराज के नजदीकी माने जाने वाले ध्यानसिंह  जगवाण Dhyan singh jagwan  ग्रेस के जिलाध्यक्ष भी रहे। सामाजिक कार्यों में सदैव सक्रिय रहने के साथ वे अगस्त्यमुनि के ज्येष्ठ उपप्रमुख भी रहे। भटवाड़ीसैण में लघु औद्योगिक आस्थान की स्थापना में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। तल्ला नागपुर पेयजल योजना, रुद्रप्रयाग तहसील व जिला निर्माण के आंदोलनों में उनकी अग्रणी भूमिका रही।



उनके निधन पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रदीप बगवाड़ी, विधायक भरतसिंह चौधरी, जखोली के प्रमुख प्रदीप थपलियाल, वरिष्ठ पत्रकार रमेश पाहडी, कुलदीप राणा आजाद, माधोसिंह नेगी  घनानंद सती, बीरेदं सिंह बुटोला, मोहित डिमरी,  लक्ष्मण सजवाण, श्रीनिवास पोस्ती, पत्रकार हरीश गुसाई, प्रतिष्ठित व्यापारी जितार जगवाण सहित सामाजिक कार्यकर्ताओं, राजनीतिक दलों के नेताओं, व्यापारियों, पत्रकारों ने शोक व्यक्त करते हुए उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की है और इसे केदार घाटी की अपूरणीय क्षति बताया है।



No comments: