Breaking News

Tuesday, 7 December 2021

दुःखद खबर: घास लेने गई महिला को गुलदार ने बनाया अपना शिकार, परिजनों में कोहराम

 


दुःखद खबर: घास लेने गई महिला को गुलदार ने बनाया अपना शिकार, परिजनों में कोहराम


डैस्क : केदारखण्ड एक्सप्रेस न्यूज़

चपावत । उत्तराखंड में मानव वन्यजीव संघर्ष थमने का नाम नहीं ले रहा है खासकर पहाड़ों में आए दिन जंगली जानवर लोगों को अपना शिकार बना रहे हैं। लेकिन मानव वन्यजीव संघर्ष की घटनाओं को रोकने को लेकर अब तक सरकार प्रशासन ने कोई ठोस कदम नहीं उठाए हैं। जिसकी वजह से आए दिन पहाड़ के किसी न किसी गांव से दुःखद खबर आती रहती है। आज ऐसा ही हादसा चंपावत जिले के ढकना गांव में हुआ जहां जंगल घास लेने गई महिला को गुलदार ने अपना शिकार बना लिया, घटना के बाद जहां गांव में दहशत है तो वहीं परिवार में शोक की लहर है।


मिली जानकारी के मुताबिक बीते दिन सोमवार की सुबह 9:00 बजे चंपावत से लगे ढकना गांव की 35 वर्षीय मीना नरियाल पत्नी रमेश सिंह रोज की तरह अपनी साथी महिलाओं के साथ हथिया नौला के पास जंगल में घास काटने के लिए गई थी। ठीक 11:00 बजे के आसपास झाड़ी में घात लगाए बैठे आदमखोर गुलदार ने महिला पर हमला बोल दिया और महिला को घसीटते हुए ले गया, मीना की चीख पुकार सुनते ही अन्य साथी महिलाओं ने तुरंत हल्ला और शोरगुल किया तो पास में ही एक भेड़ चरा रहा गडरिया भी रुका हुआ था।

लोगों के द्वारा खूब हो हल्ला करने पर गुलदार महिला को छोड़कर भाग गया। जिसके बाद आनन-फानन में लोग गांव की तरफ सूचना देने भागे। लेकिन महिला की जान नहीं बच सकी। ग्रामीणों ने बताया कि महिला के सिर के एक हिस्से को गुलदार खा गया जबकि अन्य हिस्सों को बुरी तरह नोच गया था, वहीं ग्रामीणों ने तत्काल वन विभाग से आदमखोर गुलदार को पकड़ने या फिर मारने की मांग की है। इस घटना के बाद जहां गांव में दहशत है तो वहीं परिजनों में कोहराम मचा हुआ है।

इसे भी देखें-

सैकड़ों नाली जमीन बंजर डालकर कहां गायब हो गया चाय विकास बोर्ड? 




No comments: