Breaking News


 

Wednesday, 20 October 2021

दो माह से हड़ताल पर चल रहे सस्ता गल्ला विक्रेताओं की मांगे पूरी

 

दो माह से हड़ताल पर चल रहे सस्ता गल्ला विक्रेताओं की मांगे पूरी




पार्वती असवाल/केदारखण्ड एक्सप्रेस

पोखरी। दो माह से हड़ताल पर चल रहे सस्ता गल्ला बिक्रेताओ की मांग पर शासन ने वर्ष 2014 से राशन ढुलाई की धनराशि सभी जिलो को अवमुक्त कर दी  है। जिसमे निशुल्क राशन ढुलाई का पांच माह का भुगतान कर दिया गया है, शेष तीन माह का भुगतान किया जा रहा है।  चमोली जिला पूर्ति  विभाग से मिली जानकारी के अनुसार राशन ढुलाई भाडे की धनराशि  प्राप्त हो गयी है, और गल्ला बिक्रेताओ के खाते मे धनराशि भेजने का कार्य शुरू हो गया है। इसके अलावा खाद्य आयुक्त ने सभी जिलास्तरीय खाद्य पूर्ति अधिकारियो, क्षेत्रीय पूर्ति अधिकारियो व पूर्ति निरीक्षको  को निर्देश देते हुए गल्ला बिक्रेताओ  को राशन उठाने का फरमान जारी किया है। लेकिन पोखरी के गल्ला बिक्रेताओ पर शासन के राशन उठाने का फरमान जारी करने  का कोई असर नही दिख रहा है। विकास खंड पोखरी के सरकारी सस्ता गल्ला संगठन के अध्यक्ष रमेश चौधरी ने कहा  कि सरकारी गल्ला बिक्रेताओ को 2014 से राशन ढुलाई का भाडा जब तकतक  बिक्रेताओ के खाते मे नही आता है। तब तक वे राशन नही उठायेगे। उन्होने कहा कि मुख्य मंत्री जी ने पच्चास प्रतिशत लाभांश दिए जाने की घोषणा की है,  उस पर भी अमल नही हुआ है। कहा कि मानदेय  व बीमा योजना मे सम्मलित करने की भी मांग है। 

  वही दूसरी ओर जनता की राशन की समस्याओ को देखते हुए ,खाद्य आयुक्त ने जिला पूर्ति अधिकारी,क्षेत्रीय पूर्ति अधिकारी एवं पूर्ति निरीक्षको को पत्र प्रेषित कर निर्देशित कर दिया है, कि सरकारी सस्ता गल्ला  बिक्रेताओ के अनुबंध की शर्तो का उल्लंघन होने के साथ राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 के तहत आवश्यक वस्तु अधिनियम का भी उल्लंघन है। साथ ही शासन के पत्र मे यह भी उल्लेख किया गया है कि कोविड 19 व एवं राज्य मे संभावित आपदा (भारी बारिश) के दृष्टिगत समस्त सरकारी सस्ता गल्ला बिक्रेताओ के माध्यम से खाद्यान्न उठाया जाना आवश्यक है।  पोखरी की पूर्ति निरीक्षक शोभा बेजवाल ने जानकरी दी है कि गल्ला बिक्रेताओ को राशन उठाने के लिए पहले ही  नोटिस दिए गये है। उन्होंने गल्ला बिक्रेताओ का आह्वान किया है कि शीघ्र राशन ढुलाई का कार्य शुरू कर  जनता को राशन बांटना सुनिश्चित करे, ताकि अनुशासनात्मक कार्रवाई से बच जा सके।

सरकारी सस्ता गल्ला बिक्रेताओ के राशन भाडे की धनराशि 01 करोड 90 लाख व निशुल्क राशन वितरण की धनराशि अलग से  जिले को प्राप्त हुई है। जिसमे निशुल्क राशन ढुलाई  मे से पांच माह का भुगतान हो गया है।और तीन माह का भुगतान और किया जा रहा है। कहा कि स्टाफ की कमी के कारण वे धनराशि को बिक्रेताओ के खाते मे डालने का काम  स्वयं ही कर रहे है।कहा कि जनपद मे अधिकांश विकास खंडो  मे गल्ला बिक्रेताओ द्वारा राशन उठाने का कार्य शुरू कर  दिया है,केवल देवाल, नारायणबगड,कर्णप्रयाग व पोखरी के बिक्रेताओ ने राशन नही उठाई है। शशिकला फर्स्वाण प्रभारी जिलापूर्ति अधिकारी चमोली-गोपेश्वर।


No comments: