Breaking News

Monday, 19 July 2021

अपने चेहते ठेकेदारो पर अध्यक्ष की कृपा : नगर पालिका गोपेश्वर पर बिना टेंडर के कार्य करवाने का आरोप, अध्यक्ष ने आरोपों को बताया निराधार

अपने चेहते ठेकेदारो पर अध्यक्ष की कृपा : नगर पालिका गोपेश्वर पर बिना टेंडर के कार्य करवाने का आरोप, अध्यक्ष ने आरोपों को बताया निराधार

 सोनिया मिश्रा/केदारखंड एक्सप्रेस

चमोली। नगर पालिका गोपेश्वर में विकास कार्यों के आवंटन में गड़बड़झाला सामने आया है। अध्यक्ष की ओर से अपने कई चहेते ठेकेदारों को एक के बाद एक काम देने में लगे हुए हैं। ठेकेदार भी इतने आश्वस्त कि टेंडर आवंटन होने से पहले ही प्रस्तावित कार्यों को शुरू कर दे रहे हैं। 



पालिका की ओर से खुलेआम व्यक्ति विशेष को फायदा पहुंचाने का काम किया जा रहा है। यह खुलासा किया है नगर पालिका के ही सभासदों ने। सोमवार को गढ़वाल मंडल विकास निगम के सभागार में पत्रकारों से वार्ता में सभासद नवल भट्ट, सुभाष नगर से उपेंद्र भंडारी, गंगोलगांव से प्रियंका बिष्ट और पाडुली से दीपक पंवार ने कहा कि नगर पालिका के बोर्ड में रखे प्रस्तावों की कोई अहमितयत नहीं है। अपने चहेते लोगों को अध्यक्ष की ओर से काम दिया जा रहा है। सभासदों के प्रस्तावों को दरकिनार किया जा रहा है। पालिका क्षेत्र में प्रशासन की ओर से बिना एनओसी के पार्कों का सौंदर्यीकरण किया जा रहा है, जबकि पालिका मूकदर्शक बनी हुई है। 

कर्णप्रयाग टैक्सी स्टेंड के समीप तीन साल पूर्व निर्मित भवन के कमरों का आज तक सार्वजनिक आवंटन नहीं किया गया है, जिससे पालिका को लाखों का चूना लग रहा है। इन दुकानों की भी बंदरबांट करने की फिराक में हैं। कहा गया कि पालिका की योजनाओं के आवंटन में खुलेआम राजनीति की जा रही है। तीन साल पूर्व हुई बोर्ड की बैठक में पास हुए प्रस्तावों पर आज तक काम शुरू नहीं हो पाया है। चेतावनी दी गई कि बोर्ड के अधिकारों को समाप्त नहीं होने दिया जाएगा। सभासदों ने कहा कि नगर पालिका की परिसं‌पत्तियां किसके नाम हैं, अध्यक्ष को यह तक मालूम नहीं है। यदि उन्हें अध्यक्ष पद पर काम करना नहीं आ रहा है तो उन्हें अपने पद से त्याग पत्र दे देना चाहिए। यदि ऐसा ही चलता रहा तो सभी सभासद अगला कदम उठा देंगे। कहा गया कि नगर में दुकानों का जो आवंटन हुआ है, वह भी नियम विरुद्घ हो रहा है। दुकानों के आवंटन में भी मनमानी की जा रही है। जिन लोगों को दुकानों का आवंटन किया गया है, उनकी ओर से ऊंचे दामों में वे दुकानें तीसरे व्यक्ति को किराए पर दी गई हैं, जिससे उन्हें पालिका बैठे बिठाए फायदा पहुंचा रही है। सभासदों ने शीघ्र इस संबंध में बड़ा आंदोलन शुरू करने का निर्णय लिया है।

उधर पालिका अध्यक्ष सुरेंद्र लाल आर्य ने बताया कि मेरे संज्ञान में इस तरह का कोई भी मामला नहीं है। सभासद द्वारा लगाए गए सभी आरोप निराधार हैं यह केवल राजनीतिक द्वेष भावना के तहत किया जा रहा है। उन्होंने कहा अगर कहीं भी इस तरह का कार्य हो रहा था तो फिर अध्यक्ष को इसकी सूचना क्यों नहीं दी गई । पालिका अध्यक्ष सुरेंद्र लाल ने कहा कई कार्य जनहित को देखते हुए त्वरित करने पड़ते हैं ऐसे कार्यों में भले ही टेंडर लगने में थोड़ा देर हो सकती है किंतु अन्य किसी भी परिस्थिति में बिना टेंडर के कार्य नहीं किए जाते हैं सभासद द्वारा राजनीतिक द्वेष भावना के तहत इस मामले को बढ़ाया जा रहा है।