Breaking News

Wednesday, 5 May 2021

अत्याचारी बंगाल सरकार को तत्काल करें बर्खास्त : भाजपा



अत्याचारी बंगाल सरकार को तत्काल करें बर्खास्त : भाजपा


डेस्क : केदारखण्ड एक्सप्रेस न्यूज़ 

रूद्रप्रयाग।  भाजपा रूद्रप्रयाग की ओर से सभी ग्यारह मण्डलों में अलग अलग स्थान पर कोविड निर्देशानुसार सांकेतिक धरना दिया जिसमें राष्ट्रपति महामहिम से गुहार लगायी की अत्याचारी बंगाल की सरकार को तुरन्त बर्खास्त किया जाय ओर वहां राष्ट्रपति शासन लगाया जाय।  

इसी के तहत, रूद्रप्रयाग नगर मण्डल में भाजपा जिलाध्यक्ष दिनेश उनियाल एंव नगर अध्यक्ष सुरेंद्र रावत के नैतृत्व में धरना दिया गया जिसमेंअगस्त्यमुनि कोविड नियमों का पालन करते हुए सामाजिक दूरी का ध्यान रखते हुये बंगाल टीएमसी के खिलाफ भाजपा अगस्त्यमुनि नगर मण्डल द्वारा सांकेतिक धरना दिया साथ ही ममता सरकार का पूतला फूंका ओर खण्ड विकास अधिकारी अगस्त्यमुनि के माध्यम से महामहिम राष्ट्रपति को ज्ञापन दिया।

ज्ञापन देने वालों में भाजपा जिला महामंत्री अनूप सेमवाल, नगर मण्डल अध्यक्ष जेo पीo सकलानी, युवा मोर्चा जिला महामंत्री अनिल कोठियाल, नगर उपाध्यक्ष उमेश कान्डपाल, संयोजक मनोज राणा, जिलाकार्यकारणी सदस्य हर्षपति डिमरी, कोषाध्यक्ष ताजबर सिंह, विपिन रौथाण मौजूद थे। वहीं उखीमठ एंव गुप्तकाशी में भी अलग अलग स्थानों पर सांकेतिक धरना दिया गया उसके बाद पत्र उपजिलाधिकारी को दिया गया यहां धरना देने वालों में पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष चण्डी प्रसाद भट्ट , पूर्व विधायक आशा नौटियाल, नगर पंचायत अध्यक्ष विजय राणा, मण्डल अध्यक्ष गजपाल सिंह रावत, गुप्तकाशी में  मण्डल अध्यक्ष विनोद देवशाली के नैतृत्व में पूर्व प्रमुख ममता नौटियाल, पूर्व दायित्वधारी दिनेश बगवाड़ी, केदारनाथ नगर पंचायत अध्यक्ष देव प्रकाश सेमवाल, वेद प्रकाश जमलोकी  आदि धरने में मौजूद थे, सिद्धसौड़ मण्डल में ओमप्रकाश बहुगुणा के नैतृत्व में, चोपता मण्डल में मण्डल अध्यक्ष गम्भीर विष्ट के नैतृत्व में, रूद्रप्रयाग ग्रामीण में सुरेंद्र जोशी के नैतृत्व में , सुमाड़ी तिलवाड़ा मण्डल में कुलवीर रावत जी के नैतृत्व में, जखोली में मेहरबान सिंह रावत के नैतृत्व में, अगस्त्यमुनि ग्रामीण मण्डल अध्यक्ष बृजमोहन नेगी एंव चरण सिंह राणा के नैतृत्व में , तल्तानापुर मण्डल में मण्डल अध्यक्ष सुभाष पुरोहित के नैतृत्व में सांकेतिक धरना एंव ज्ञापन दिया गया ज्ञापन में बंगाल सरकार को बर्खास्त करने की मांग महामहिम से की गयी।