Breaking News

Sunday, 23 May 2021

आपदा मे ध्वस्त हुआ था गाँव का मुख्य मार्ग, ग्रामीणों ने श्रमदान कर खोल


आपदा मे ध्वस्त हुआ था गाँव का मुख्य मार्ग, ग्रामीणों ने श्रमदान कर खोल


नरकोटा:सरकारी महकमे के मुह पर जोरदार तमाचा

आपदा मे ध्वस्त हुआ था गाँव का मुख्य मार्ग, ग्रामीणों ने श्रमदान कर खोल

डीएम आये आश्वाशन दिया चले गए, पर कई दिनों बाद भी नहीं हुई कार्यवाही

कोरोना महामारी को देखते अलग अलग ग्रुप बना कर किया कार्य 

रुद्रप्रयाग। जिला मुख्यालय के निकटवर्ती गाँव नरकोटा के ग्रामीणों ने सरकारी महकमे को आईना ही नही दिखाया, बल्कि मुह पर करारा तमाचा भी मार दिया। आपदा से ध्वस्त हुए गाँव के मुख्य मार्ग को खोलने के लिए प्रशासन ने दावा तो किया लेकिन जब कोई कार्यवाही नही हुई तो ग्रामीणों खुद ही श्रमदान मे जुट गए। वही इस दौरान कोरोना महामारी से बचाव का भी पुरा ध्यान रखा गया। 



दरअसल नरकोटा गाँव मे चार अलग अलग जगह बादल फटने की घटनाएं हुई थी। लेकिन सबसे अधिक नुकसान सैण तोक को हुआ था। वही इसी जगह पर गाँव का मुख्य दुपहिया वाहन मार्ग भी कई जगह क्षतिग्रस्त हो गया था। इस बीच गाँव मे जिलाधिकारी मनुज गोयल का भी दौरा हुआ। ग्रामीणों मे नुकसान की भरपाई के साथ ही, गाँव के मुख्य सम्पर्क मार्ग को खोलने की मांग प्रमुखता से रखी। जिस पर आश्वाशन भी मिला। 

जब जब कई दिन बीत गए और सरकारी स्तर से कोई कार्यवाही नही हुई तो, फिर ग्रामीणों मे खुद ही श्रम दान कर मार्ग को खोलने का निर्णय लिया। इस बीच कोरोना महामारी का खतरा भी था। ऐसे दो दिन अलग अलग शिफ्ट मे काम किया गया। जिसके बाद मार्ग को खोला गया। 

 श्रमदान करने वाले ग्रामीण पूर्व प्रधान भगवती प्रसाद सिलौड़ी, संदीप प्रसाद, गोविद् राणा, सूर्या प्रकाश भट्टकोटी, प्रदीप सिलोडी, कुलदीप सिलोडी, विकाश सिलोडी, अमित भट्टकोटी, गौरव सिलोडी व पुष्पानंद जोशी आदि शामिल थे।