Breaking News

Thursday, 13 May 2021

कोविड़ ड्यूटी करने आये स्वास्थ्य कर्मियों को प्रशासन रहने के लिए मुहैया नहीं करवा पा रहा ठिकाना, कोई कमरा देने को नहीं तैयार, चार दिन से भटक रहे



 कोविड़ ड्यूटी करने आये स्वास्थ्य कर्मियों को प्रशासन रहने के लिए मुहैया नहीं करवा पा रहा ठिकाना, कोई कमरा देने को नहीं तैयार, चार दिन से भटक रहे


-भूपेन्द्र भण्डारी/केदारखण्ड एक्सप्रेस

रूद्रप्रयाग। वैश्विक महामारी कोरोना काल में पहले तो रूद्रप्रयाग के स्वास्थ्य विभाग में स्टाफ की भारी कमी थी किन्तु अब सरकर द्वारा रूद्रप्रयाग जनपद को 14 स्वास्थ्य कर्मी कोविड़-19 की ड्यूटी के लिए भेजे गए परंतु उन्हें जिला प्रशासन रहने तक की व्यवस्था नहीं करवा पा रहा है। पिछले चार दिनों ये स्वास्थ्य कर्मी कमरों की तलाश में यहाँ-वहाँ भटक रहे हैं किन्तु स्वास्थ्य विभाग की तैनात होने के कारण कोरोना की डर से कोई इन्हें कमरा किराया पर देने को भी तैयार नहीं है। सबसे बड़ी बात यह है कि इनमें 9 महिला कर्मचारी भी शामिल हैं। 

कोरोना के इस संकट काल में स्वास्थ्य महकमें से जुड़े प्रत्येक कर्मचारी अधिकारी अपने जान को दांव पर लगाकर मानवता की सेवा में लगा हुआ है जो किसी देवदूत से कम नहीं हैं। लेकिन रूद्रप्रयाग जनपद में इन्हीं देवदूतों के लिए जिला प्रशासन बेहतर रहने-खाने की व्यवस्था तो छोड़िए सिर छुपाने तक के लिए आसरा मुहैया नहीं करवा पा रहा है। विभिन्न जिलों और प्रदेशों से माधवाश्रम शंकराचार्य अस्पताल कोटेश्वर रूद्रप्रयाग में कोविड़ ड्यूटी करने आए 14 स्वास्थ्य कर्मियों को बीते 10 मई से प्रशासन द्वारा रहने की व्यवस्था तक नहीं की गई है। जबकि अन्य जिलों में स्वास्थ्य कर्मियों के लिए बेहतर सुविधाएं मुहैया करवाई जा रही हैं। 

कोविड़ ड्यूटी करने आए आसुतोष पंवार, राहुल शाह, सचिन चंडेल, सुशील, सोनिका, ज्योतिनाथ, प्रिति का कहना है कि पिछले चार दिनों से जिलाधिकारी और मुख्य चिकित्सा अधिकारी से रहने के लिए बात की जा रही है लेकिन केवल आश्वसन मिल रहा है पर कमरे की व्यवस्था नहीं हो पा रही है। उन्होंने कहा कि चार दिनों से सभी लोग किराये पर कमरा लेने की तलाश भी कर रहे हैं लेकिन स्वास्थ्य विभाग में तैनात होने के कारण कोरोना की डर से कोई कमरा देने को तैयार नहीं है। ऐसे में भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जैसे तैयार कोई अस्पताल तो कोई स्टाफ के साथ रह रहा है लेकिन ऐसा कब तक चलेगा। जबकि महिला कर्मियों भारी परेशानियों से गुजरना पड़ रहा है। 

वहीं प्रभारी मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ मनोज बडोनी का कहना है कि कोविड़ ड्यूटी के लिए आए सभी कर्मियों की तत्काल रहने व खाने की व्यवस्थाएं उपलब्ध करवाई जा रही हैं। इस संबंध में प्रशासन से भी बात की जायेगी।