Breaking News

Monday, 17 May 2021

अजब-गजब: बिना टेस्ट के ही निकल गए 13 लोग कोरोना पाॅजिटिव, गांव को कंटेनमेंट जोन भी कर दिया घोषित, लोगों में दहशत

 


अजब-गजब: बिना टेस्ट के ही निकल गए 13 लोग कोरोना पाॅजिटिव, गांव को कंटेनमेंट जोन भी कर दिया घोषित, लोगों में दहशत 

-भूपेन्द्र भण्डारी/केदारखण्ड एक्सप्रेस

रूद्रप्रयाग। अगर हम कहेंगे की रूद्रप्रयाग जनपद में अंधेर नगरी चैपट राजा वाली स्थिति हो रखी है तो इसमें कोई हैरानी नहीं होगी, क्योंकि यहां सरकारी फरमान आँख बंद करके अधिकारी जारी करते हैं। पहले आपको पूरा मामला बता देते हैं आखिर रूद्रप्रयायग के गाँवों में बिना कोरोना टेस्ट के कैसे दर्जनों लोग पाॅजिटिव आ रहे हैं। दरअसल अगस्त्यमुनि विकासखण्ड के बचणस्यू पट्टी के बामसू गाँव रा0उ0नि0 क्षेत्र काण्डाई तहसील रूद्रप्रयाग में बिना कोरोना टेस्ट किए ही 13 लोगों  की रिपोर्ट कोरोना पाॅजिटिव बताई गई। जबकि उपजिलाधिकारी बृजेश तिवारी द्वारा इस गाँव को कंटेनमेंट जोन घोषित करने के आदेश भी जारी कर दिए गए। जैसे ही यह आदेश गाँव में पहुँचा तो हड़कंप मच गया और ग्रामीण भयभीत हो गए। 



ग्राम प्रधान सुधा कण्डारी ने जिलाधिकारी को पत्र लिखकर बामसू गाँव में बिना कोरोना टेस्ट किए 13 लोगों को पाॅजिटिव बताना और गाँव को कंटेनमेंट जोन घोषित किए जाने पर कड़ी आपत्ति व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि आज तक  हमारे गाँव में ना कभी स्वास्थ विभाग की टीम आई हैं और ना ही किसी व्यक्ति का कोरोना टेस्ट हुआ है। ग्रामीणों द्वारा गाँव से बाहर भी किसी भी स्वास्थ्य केन्द्र पर कोरोना का टेस्ट नहीं करवाया है। प्रधान सुधा कण्डारी ने यह भी कहा कि प्रशासन द्वारा भी उन्हें इस संबंध में कोई जानकारी नहीं दी गई। ऐसे में एकाएक उपजिलाधिकारी द्वारा गाँव को कंटेनमेंट जोन घोषित किए जाने का आदेश कुछ हजम नहीं हो रहा है। उन्होंने कहा कि प्रशासन की इस घोर लापरवाही के कारण पूरा गाँव दहशत में है और लोगों का मानसिक उत्पीड़न हो रहा है। 

वहीं उत्तराखण्ड क्रांन्ति दल के युवा नेता मोहित डिमरी ने इसे गम्भीर लापरवाही बताया है। उन्होंने कहा कि कंटेन्मेंट जोन घोषित होने के बाद से ग्रामीण दहशत में आ गए थे। यह बात अलग है कि तहसील प्रशासन से यह भूलवश हुआ होगा। लेकिन इस तरह के आदेश जारी करने से पूर्व जांच पड़ताल भी जरूरी है। आगे से इस तरह की लापरवाही न हो तहसील प्रशासन को इसका ध्यान रखना चाहिए। इससे यही जाता है कि तहसील प्रगशासन कोविड को लेकर कितना संजीदा है। आगे से इस तरह की लापरवाही न हो तहसील प्रशासन को इसका ध्यान रखना चाहिए। 

इस संबंध में उपजिलाधिकारी बृजेश तिवारी ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा जानकारी दी गई थी कि बामसू में 13 व्यक्ति कोरोना पाॅजिटिव आए हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा भेजे गए पत्र के अनुसार ही बामसू गांव को कंटेन्मेंट जोन घोषित किया है।