Breaking News

Thursday, 4 March 2021

सिक्स सिग्मा हेल्थकेयर देगा केदारनाथ 2021 में हाई ऐल्टिटूड मेडिकल सर्विस, 98 डॉक्टर व पैरमेडिकल की टीम है तैयार



सिक्स सिग्मा हेल्थकेयर देगा केदारनाथ 2021 में हाई ऐल्टिटूड मेडिकल सर्विस, 98 डॉक्टर व पैरमेडिकल की टीम है तैयार 


रूद्रप्रयाग। यात्रा में कोरोना की टेस्टिंग, वैक्सिनेशन की भी तैयारी, श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए होगा हाइपरबॉनिक चैम्बर ! बेहतर संपर्क स्थापित करने के लिए 11 सैटेलाइट फ़ोन का उपयोग भी किया जाएगा !

देवभूमि उत्तराखंड के गौरवशाली परंपरा के प्रति समर्पण भाव के साथ सिक्स सिग्मा हाई ऐल्टिटूड हॉस्पिटल ने सेवा व पराक्रम की मिसाल पेश की... सिक्स सिग्मा ने सत्य, साहस, समर्पण,  और पराक्रम से प्रदेश के विकास में चार चाँद लगाए और कन्धे से कन्धा मिलाकर स्वास्थ्य सेवाओं में अदम्य साहस का परिचय दिया !! 2013 से केदारनाथ यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं को चिकित्सा सेवा प्रदान कराने वाली सिक्स सिग्मा हाई ऐल्टिटूड मेडिकल सर्विस ने आने वाली 2021 की केदारनाथ यात्रा हेतु तैयारी शुरू कर दी है। ऊँच पर्वतीय दुर्गम हिमालय में मेडिकल सेवा देने वाले संस्था के मुख्य कार्यकारीधिकारी एवं मेडिकल डायरेक्टर डॉ. प्रदीप भारद्वाज ने कहा, उत्तराखंड चार धाम देवस्थानम् मैनेजमेंट बोर्ड की ओर श्री केदारनाथ, श्री मद्ममहेश्वर, श्री तुंगनाथ व श्री हेमकुंड साहिब में सिक्स सिग्मा हाई ऐल्टिटूड  मेडिकल सर्विस प्रदान करने का अनुरोध पत्र प्राप्त हुआ है ! सिक्स सिग्मा ने चारधाम यात्रा के मुख्य स्थलों पर दी जाने वाली चिकित्सा सेवाओं को लेकर इसकी रूपरेखा तैयार कर ली गई है। 



चारधाम यात्रा के दौरान विभिन्न स्थलों पर दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवाओं के विषय में जानकारी देते हुए सिक्स सिग्मा हेल्थकेयर के मेडिकल डायरेक्टर डॉ. प्रदीप भारद्वाज ने बताया कि सिक्स सिग्मा हाई ऐल्टिटूड मेडिकल सर्विस पूर्व की भाति श्री केदारनाथ, श्री मद्ममहेश्वर धाम, श्री तुंगनाथ जी के अलावा श्री हेमकुंड साहिब में मेडिकल सेवाएं देगी। इसके लिए सिक्स सिग्मा संस्था ने पर्वतीय क्षेत्रों में मेडिकल सेवा देने का अनुभव रखने वाले 98 डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ की टीमें बनाई है, जो वहां पर जाकर यात्रा पर आने वाले भक्तों को उच्चतम चिकित्सा सेवा देगें। सिक्स सिग्मा की मेडिकल टीम को भारतीय सेनाओं से प्रशिक्षण प्राप्त है ! सेना ने सिक्स सिग्मा मेडिकल टीम को बेहद मुश्किल हाई एल्टीट्यूड सर्वाइवल ट्रेनिंग करवाई है.. जिस ट्रेनिंग में उफनती नदियों और आग से गुजरना, माइनस टेम्प्रेचर में रहना, पहाड़ पर रेस्क्यू करना, बिना सहारे पहाड़ पर चढ़ना, भारी बोझ के साथ कई किलोमीटर की दौड़ और लगातार 7 दिन घने पीक़ के जंगलों में रात गुजारना आदि शामिल है ! 

महाशिवरात्रि के पावन अवसर पर जैसे ही केदारनाथ धाम के कपाट खुलने की तिथि निधारित हो जाएगी। सिक्स की मेडिकल टीमें भी सेना के साथ मिलकर हाई ऐल्टिटूड में ट्रेनिंग करना शुरू कर देगी। डॉ. भारद्वाज ने कहा, अभी तक देश से कोरोना का संक्रमण पूर्ण रूप से समाप्त नहीं हुआ है। प्रतिदिन विभीन्न राज्यों से मिलने वाले आंकड़े बीमारी के पुनरू लौटने की ओर इशारा कर रहे हैं, जिसके कारण यात्रा के दौरान श्रद्धालुओं को भी कुछ सावधानियां रखनी होगी। यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं को स्वास्थ्य परीक्षण से गुजरना होगा। धाम में आने से पहले श्रद्धालुओं की थर्मल स्क्रीनिंग की जायेगी। सभी तीर्थयात्रियों को मास्क व सामाजिक दूरी बनाते हुए नियमों का पालन करवाया जाएगा।

सिक्स सिग्मा हेल्थकेयर के मेडिकल डायरेक्टर डॉ. प्रदीप भारद्वाज ने चार धाम यात्रा के समय श्रद्धालुओं को मिलने वाली स्वास्थ्य सेवाओं के बारे में बताया कि इस बार हाई ऐल्टिटूड मेडिकल सर्विस की ओर से केदारनाथ धाम में श्रद्धालुओं को माहमारी से बचाने के लिए कोविड-19 का टेस्ट भी किया जाएगा और संस्था की ओर वैक्सिनेशन भी किया जाएगा ! इसके अतिरिक्त यात्रियों की सुविधा के लिए हापरबॉनिक चैम्बर भी बनाया जाएगा और मोबाइल ईसीजी की भी सुविधा मिलेगी। कोरोना के प्रकोप को ध्यान में रखते हुए उपचार के दौरान पीपीई किट का उपयोग भी किया जाएगा। इस बार यात्रा में मेडिकल सेवा देने के लिए सिक्स सिग्मा हेल्थकेयर की ओर से *98 से अधिक मेडिकल स्टाफ को लगाया जाएगा*, जिसमें क्रीटिकल केयर, कार्डियो, रेसप्रेटरी और महिला रोग, बाल रोग विशेषज्ञ अपनी सेवाएं देगे। संस्था की ओर यात्रा के दौरान बेहतर संपर्क स्थापित करने के लिए 11 सैटेलाइट फोन का उपयोग किया जाएगा।

गत वर्ष डॉ. प्रदीप भारद्वाज के नेतृत्व में सिक्स सिग्मा हाई ऐल्टिटूड मेडिकल सर्विस का एक प्रतिनिधि मंडल राज्य के मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से मिला था। मुलाकात के दौरान सिक्स सिग्मा हाई ऐल्टिटूड मेडिकल टीम के सदस्यों ने चारधाम यात्रा के दौरान श्रद्धालुओं को होने वाली परेशानियों के संबंध में एक इंटेलिजेन्स रिपोर्ट सौंपी थी, जिसमें यात्रा के सुगम संचालन, श्रद्धालुओं के लिए बेहतर सविधा (खान-पान एवं रात्रि विश्राम), आपात स्थितियों के एयर एम्बुलेंस की व्यवस्था के अतिरिक्त केदारनाथ, मद्ममहेवर और तुंगनाथ स्थित चिकित्सा शिविरों में मरीजों के लिए उपर्युक्त सुविधाओं के साथ-साथ बेड बढ़ाने का भी सुझाव दिया था। इसके अतिरिक्त सिक्स सिग्मा हेल्थकेयर के निदेशक डॉ. प्रदीप भारद्वाज ने राज्य के रुद्रप्रयाग जनपद में क्षेत्रीय लोगों के विकास के लिए एक हाई ऐल्टिटूड मेडिकल इंस्टीट्यूट स्थापित करने का प्रस्ताव राज्य सरकार के समक्ष रखा था। जिस पर मुख्यमंत्री ने यथा संभव सहायता देने का आश्वासन दिया था। 


सिक्स सिग्मा के साहसी कार्यों को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी व राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने भी कई बार सम्मानित किया है, व राज्य सरकारों- जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, हरियाणा और सिक्किम के अतिरिक्त इंटर्नैशनल लेवल पर वियतनाम, भूटान, जापान और नेपाल की सरकारों ने भी सराहा है!

सिक्स सिग्मा - एक परिचय :: सैनिक पृष्ठभूमि वाले डॉ. प्रदीप भारद्वाज ने 2009 में सिक्स सिग्मा हाई ऐल्टिटूड मेडिकल सर्विस की स्थापना की। भारत की धरती पर कई कर्मयोगियों ने जन्म लिया। उन विभिूतियों ने अपने पराक्रम के बल पर अपने क्षेत्र का भी नाम रौशन किया। बहु-मुखी और प्रतिभा के धनी डॉ. प्रदीप भारद्वाज पहाड़ों व गांव की मिट्टी में रचे बसे व्यक्ति हैं। सिक्स सिग्मा हाई ऐल्टिटूड मेडिकल सर्विस आम आदमी से लेकर भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी तक को फ़्री हाई ऐल्टिटूड मेडिकल सुविधा देता है। सिक्स सिग्मा की हाई आल्टीट्यूड मेडिकल सर्विस की टीम डॉ. प्रदीप भारद्वाज के नेतृत्व में कैलाश मानसरोवर(नाथुला-सिक्किम), श्री अमरनाथ(जम्मू-कश्मीर), श्री केदारनाथ, श्री मद्महेश्वर, तुंगनाथ, हेमकुंड साहिब(उत्तराखंड) और श्री मणिमहेश(हिमाचल प्रदेश) की यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं को चिकित्सा सुविधा देती है। उच्च उक्तांश क्षेत्रों में सिक्स सिग्मा हाई ऐल्टिटूड मेडिकल सर्विस के 450 डॉक्टरों और वॉलंटियरों ने 553000 से अधिक यात्रियों को चिकित्सा सुविधा प्रदान कराई। सिक्स सिग्मा कंपनी अपनी विशिष्ठ कार्यशैली के कारण ही अब तक 10 अंतर्राष्टकृीय पुरस्कारों के साथ-साथ भारत सरकार के 18 राष्टकृीय पुरस्कार जीत चुकी है। वहीं कंपनी कर्मचारियों द्वारा किए गए अविश्वसनीय कार्यों के कारण सिक्स सिग्मा को 10 बार लिम्का बुक आफ रिकार्ड्स और इंडिया बुक ओफ़ रिकार्ड्स में स्थान मिल चुका है।