Breaking News

Friday, 22 January 2021

आठ हजार खाता खोलकर गायब हो गया स्टेट बैंक, खाताधारक परेशान


आठ हजार खाता खोलकर गायब हो गया स्टेट बैंक, खाताधारक परेशान


भानु भट्ट/केदारखंड एक्सप्रेस

बसुकेदार। बसुकेदार में स्टेट बैंक किस शाखा ने यहां की जनता के साथ बड़ा छलावा किया है। कुछ महीनों तक बस केदार में स्टेट बैंक की शाखा खोलने के बाद यहां करीब आठ हजार खाते खोले गए लेकिन उसके बाद बैंक गायब हो गया है। ऐसे में अब जनता भारी परेशान है।

  दरअसल भारतीय स्टेट बैंक ने दिसंबर 2005 में  चन्द्रापुरी की एक सेटेलाइट शाखा बसुकेदार में खोली  जो कि वर्ष 2013 तक सप्ताह में 2 दिन खोल जाता था। इस अवधि में बसुकेदार क्षेत्र की जनता ने इस शाखा में करीब 8 हजार खाते खोले। वही जानकारी के अनुसार वर्ष 2010 में इसे स्थाई शाखा की स्वीकृति भी मिल चुकी थी जिसका कोल्ड  10139 मिला था। उस वक्त भारतीय स्टेट बैंक ने बसुकेदार की इस शाखा  में आवश्यक सभी सुविधाएं चाक-चौबंद कर दी थी। लेकिन बताया जा रहा है कि कर्मचारियों की भारी लापरवाही के कारण इस शाखा का संचालन ठीक से नहीं हो पाया  और अंततः यह शाखा बन्द  हो गई। 


स्टेट बैंक ने जनता के साथ ऐसा किया फरेब

दरअसल भारतीय स्टेट बैंक की बसुकेदार के नाम से कोई शाखा थी ही नहीं। यहां खोले गए करीब 8000 खाते चंद्रपुरी शाखा में खोले गए लेकिन लोगों को गुमराह किया गया की खाता बसुकेदार शाखा में खोला जा रहा है इस बात का खुलासा तब हुआ जब बसुकेदार क्षेत्र के सामाजिक कार्यकर्ताओं का एक शिष्ट मण्डल रिजिनल मैनेजर से मिलने देहरादून गया। मैनेजर द्वारा दिए गए जवाब से शिष्टमंडल भौचक्का रह गया। उन्होंने बताया कि भारतीय स्टेट बैंक की  बसुकेदार के नाम से  कोई शाखा  है ही नहीं  बसुकेदार क्षेत्र के  सभी खाते  चंद्रपुरी  स्टेट बैंक में खोले गए हैं। 


भारतीय स्टेट बैंक द्वारा बसुकेदार की जनता को वर्षों तक छला जाता रहा है। ऐसे में क्षेत्र की वृद्धा पेंशन विकलांग पेंशन के साथ ही गरीब काश्तकारों को 15 16 किलोमीटर दूर चंद्रपुरी जाना पड़ता है जिससे लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।यहां के लोगों को स्टेट बैंक का एटीएम कार्ड चमोली जिला सहकारी बैंक की स्वैप मशीन से पैसे निकालने पड़ते हैं जिससे उन्हें अतिरिक्त शुल्क बैंक आना पड़ता है।आलम यह कि वर्ष 2020 मार्च से अभी तक बेक पर ताले लटके है। उक्त संदर्भ में कही प्रतिनिधियों को पत्रावलियां प्रेषित की गई किन्तु कोई सुनने वाला नहीं है।

Adbox