Breaking News

Monday, 25 January 2021

....तो क्या प्रभु राम के नाम पर राजनीति कर रहे हैं संजय शर्मा दरमोड़ा?


....तो क्या प्रभु राम के नाम पर राजनीति कर रहे हैं संजय शर्मा दरमोड़ा?


भूपेन्द्र भण्डारी/केदारखण्ड एक्सप्रेस

रूद्रप्रयाग। राम जन्म भूमि आयोद्धा में प्रभु श्री राम के भव्य मंदिर निर्माण को लेकर  आरएसएस, विश्व हिन्दु परिषद, भाजपा व उन से जुड़े हुए सभी अनुसांगिक संगठनों  द्वारा इन दिनों आम-जन मानस से चंदा इक्कठा किया जा रहा है। लेकिन राम मंदिर निर्माण के लिए लोगों द्वारा दिए गए पैंसों पर कुछ लोगों द्वारा अपनी राजनीतिक रोटी भी सेकी जा रही है। ऐसी ही चर्चा इन दिनों रूद्रप्रयाग में छाई हुई है। 

गौरतलब है कि समाजसेवी एवं दिल्ली हाईकोट के वकील संजय शर्मा दरमोड़ा द्वारा बीते दिनों तल्लानागपुर के दुर्गाधार में आयोजित एक कार्यक्रम में राम मंदिर निर्माण के लिए 7 लाख 2 हजार 651 रूपये देने की बात कही गई। उक्त राशि के चेक उनके द्वारा कार्यक्रम में मौजूद संगठन के पदाधिकारियों, विभाग कार्यवाह प्रहलाद पुष्पवान, जिला प्रचारक सोमनाथ, पूर्णकालिक डाॅ. संजय, मण्डल अध्यक्ष गम्भीर बिष्ट को सौंपी गई। संजय शर्मा दरमोड़ा द्वारा दी गई इस राशि से लोगों में भारी खुशी की लहर थी और जिले में चर्चायें चल रही थी कि यह संजय शर्मा दरमोड़ा का प्रभु श्री राम के प्रति अथाह आस्था का ही प्रतीक है कि उनके द्वारा इतनी बड़ी राशि राम मंदिर के नाम पर दान की गई। लेकिन राम मंदिर के लिए चंदा इक्कठा कर रहे उन लोगों को तब बड़ी ठेस पहुँची जब यह पता चला कि संजय शर्मा दरमोड़ा द्वारा एक फूटी कौड़ी भी राम मंदिर निर्माण के लिए नही ंदी गई है। 

दरअसल जिस सात लाख की बात संजय शर्मा द्वारा की गई वह राशि दिल्ली मुम्बई के करीब 22 दानी दाताओं द्वारा दी गई राशि थी जिनमें पर संजय शर्मा अपना श्रेय ले बैठे। कार्यक्रम के अगले दिन रूद्रप्रयाग के विभिन्न दैनिक समाचार पत्रों, न्यूज पोर्टलों और न्यूज चैनलों में भी संजय शर्मा दरमोड़ा छाये रहे। अखबारों ने भी खबर प्रकाशित की कि 7 लाख 2 हजार 651 रूपये की धनराशि संजय शर्मा दरमोड़ा द्वारा दी गई। हालांकि कार्यक्रम में खुद संजय शर्मा द्वारा यह बात मंच से कही गई है। आप पहले उन्हीं की जुबानी सुन लिजिए इस वीडियो में- 


आरएसएस के पदाधिकारियों को जब यह बात पता चली कि 22 चेकों में संजय शर्मा दरमोड़ा का एक भी चेक नही है तो वे हैरान रह गए। दरअसल चंदा देने वाले प्रत्येक व्यक्ति की रसीद काटी जा रही है लेकन इस मामले में अभी असामाजस्य की स्थिति बनी हुई है कि आखिर रसीद किस के नाम की काटी जाय। बहरहाल पूरे जनपद में आरएसएस संगठन के साथ ही भाजपा के संगठन और आम जनता के बीच खूब चर्चाओं के बाजार गर्म हो रखा है। एक वट्सएप्प गु्रप में भाजपा जिलाध्यक्ष ने कमेंट में लिखा है कि चंदा लेने वाला व्यक्ति उन लोगों के नाम भी सर्वजनिक करें जिन्होंने चंदा दिया है। लोगों द्वारा दिए गए दान पर अपनी राजनीतिक रोटी न सकें। वहीं मण्डल अध्यक्ष गम्भीर सिंह बिष्ठ ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि उनके संज्ञान में इस तरह की बात आ रही है जो बिल्कुल गलत है। इससे उन लोगों की छवि भी खराब हो रही है जो लोग पूरी ईमानदारी और निष्ठा से प्रभु श्री राममंदिर निर्माण के लिए चंदा इक्कठा कर रहे हैं। 

बहरहाल सर्वजनिक मंच से लोगों द्वारा दी गई चंदे की राशि को अपना बताकर वाह-वाही लुटकर क्या संजय शर्मा दरमोड़ा लोकप्रियता बटोरकर राजनीतिक जमीन तैयार कर रहे हैं या फिर इसके पीछे कोई और मकसद है ? यह सब बातें राजनीतिक पंण्डित ही जान सकते हैं लेकिन राम के नाम पर की जा रही राजनीति की चैतरफा जरूर आलोचना हो रही है। 





Adbox