Char dham yatra
 

Breaking News


Wednesday, 23 December 2020

केदारखण्ड एक्सप्रेस की खबर का असर : खन्नी गाँव पहुँची अधिकारियों की टीम, गौशाला मरम्मतीकरण का ग्रामीणों को मिलेगा पूरा पैसा

केदारखण्ड एक्सप्रेस की खबर का असर : खन्नी गाँव पहुँची अधिकारियों की टीम, गौशाला मरम्मतीकरण का ग्रामीणों को मिलेगा पूरा पैसा  



डेस्क :  केदारखण्ड एक्सप्रेस न्यूज़ 

पोखरी/चामोली। केदारखण्ड एक्सप्रेस न्यूज़ एक बार फिर जनपक्षीय  पत्रकारिता पर खरा उतरा है। बीते 21 दिसम्बर को   "भ्रष्टाचार में लिप्त विकासखंड पोखरी का कार्यालय, मनरेगा कार्यों में भारी धांधली, दस्तावेज छुपा रहे अधिकारी।" नामक शीर्षक से केदारखण्ड एक्सप्रेस न्यूज़ ने प्रमुखता से खबर प्रकाशित की थी, जिसमें हमने पोखरी विकासखण्ड के खन्नी गाँव में मनरेगा के तहत गौशाला सुधारीकरण में लाभार्थियों को पूरा भुगतान ना होने की खबर प्रकाशित की थी। अधिकारियो ने खबर का संज्ञान लेते हुए गांव में जाकर लाभार्थियों को पूरे पैसे देने का आश्वासन दिया है।

दरअसल वित्तीय वर्ष 2018-19 में मनरेगा योजना के अंतर्गत गौशाला सुधारीकरण के लिए खन्नी गांव से 15 लाभार्थियों का चयन हुआ था योजना पर कार्य आरंभ हुआ। लेकिन जब योजना पूरी हुई तो योजना पर लगे श्रम और सामग्री का भुगतान लाभार्थियों को पूरा नहीं हुआ। लेकिन कहीं जगह पर विभाग द्वारा सिलापट्टों पर श्रम और सामग्री का व्यय पूरा दिखाया गया। जबकि विभाग द्वारा इस योजना को अब फाइलों में बंद भी कर दिया गया है। जब ग्रामीणों ने केदारखंड एक्सप्रेस न्यूज़ के पास इसकी शिकायत की तो केदारखंड एक्सप्रेस ने इसकी पड़ताल शुरू की। लेकिन अधिकारियों द्वारा केदारखंड एक्सप्रेस को योजना से जुड़े दस्तावेज उपलब्ध नहीं कराए गए। स्थिति साफ थी कि कहीं ना कहीं योजना में गड़बड़झाला हुआ है। ऐसे में केदारखंड एक्सप्रेस ने बीते 21 दिसंबर को इस योजना से जुड़े जमीनी तथ्यों को प्रमुखता से प्रकाशित किया जिसका संज्ञान लेते हुए खंड विकास अधिकारी के नेतृत्व में योजना से जुड़े अधिकारी वह जनप्रतिनिधि गांव पहुंचे और उन्होंने मौका मुआयना किया। पीड़ित लाभार्थियों की माने तो अधिकारियों ने  उनके श्रम और सामग्री का भुगतान पूरा करने का आश्वासन दिया है।

अब देखने वाली बात होगी कि विभागीय अधिकारी वाकई में गरीब लाभार्थियों को उनका हक दिला पाती है या फिर कोरे आश्वासनों से पूरे मामले पर फिर से लीपापोती करते हैं।

No comments: