Breaking News

Tuesday, 29 December 2020

अविवादित विरासत के 5 दिनों में 65 से अधिक मामलों का हुआ निस्तारण, गांव गांव भ्रमण कर राजस्व टीम मौके पर कर रही म्यूटेशन की कार्यवाही

 अविवादित विरासत के 5 दिनों में 65 से अधिक मामलों का हुआ निस्तारण, गांव गांव भ्रमण कर राजस्व टीम मौके पर कर रही म्यूटेशन की कार्यवाही



✏नवीन चंदोला

चमोली। जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया के निर्देशों पर चमोली जिले के राजस्व गांव क्षेत्रों में अविवादित विरासत, जमीन के म्यूटेशन एवं भूमिधर खातेदार की मृत्यु के उपरांत विरासत को राजस्व अभिलेखों में दर्ज कराने को लेकर विशेष अभियान संचालित है। 23 दिसंबर से शुरू हुआ यह अभियान अगामी 31 जनवरी तक चलेगा। ताकि निर्विवाद उत्तराधिकार के मामलों का गांव में ही मौके पर निस्तारण हो सके और लोगों को अपनी विरासत राजस्व अभिलेखों में दर्ज कराने के लिए तहसीलों के चक्कर न लगाने पडे।
 
इस अभियान के तहत सभी राजस्व उप निरीक्षकों, कानूनगो, नायब तहसीलदार, तहसीलदार एवं उप जिलाधिकारियों को गांव आवंटित है। पिछले 5 दिनों में 65 से अधिक अविवादित विरासत के मामलों का मौके पर ही निस्तारण किया जा चुका है। नायब तहसीलदार राकेश देवली के नेतृत्व में राजस्व टीम ने तहसील घाट के लुंणतरा गांव में 15, काण्डई में 5, घुनी में 18 मामलों का मौके पर निस्तारण किया। वही नायब तहसीलदार अश्विन खर्कवाल के नेतृत्व में राजस्व टीम ने तहसील पोखरी के नौठा गांव में 9 और नारायणबगड के नायब तहसीलदार सुरेन्द्र देव के नेतृत्व में राजस्व टीम ने नारायणबगड के सनकोट में 12 तथा कर्णप्रयाग तहसील के कानूनगो मानवेन्द्र वर्तवाल के नेतृत्व में राजस्व टीम ने मैखुरा गांव में 6 निर्विवाद भूमि विरासत के मामलों का निस्तारण किया। जिले के सभी 74 राजस्व उप निरीक्षक क्षेत्रों के 148 राजस्व गांवों में यह अभियान चलेगा। 

इस अभियान से ‘‘सरकार जनता के द्वार’’ की अविधारणा साकार हो रही है। राजस्व टीम के गांव गांव भ्रमण से जहाॅ राजस्व संबधी समस्याओं सहित मोटर मार्ग, बिजली, पानी एवं अन्य समस्याओं का मौके पर ही निस्तारण हो रहा है वही सामाजिक सुरक्षा के तहत संचालित वृद्वावस्था, विधवा, विकलांग आदि विभिन्न पेंशन संबधी प्रकरणों का भी समाधान किया जा रहा है।