Breaking News

Wednesday, 16 December 2020

अंडर-19 क्रिकेट प्रतियोगिता में सभ्या और बबीता करवाया पंजीकरण, बेटियों के हुनर में परिस्थियों की बाधायें,

 अंडर-19 क्रिकेट प्रतियोगिता में सभ्या और बबीता करवाया पंजीकरण, बेटियों के हुनर में परिस्थियों की बाधायें, 





@कुलदीप राणा आजाद। रूद्रप्रयाग। वैसे तो बेटियां आज हर क्षेत्र में अपना परचम लहर रही हैं लेकिन क्रिकेट के क्षेत्र में संसाधनों के अभाव में पहाड़ की न केवल बेटियां बल्कि बेटे भी इस क्षेत्र से दूर रहते आए हैं। बावजूद रूद्रप्रयाग की दो बेटियों ने अंदर-19 क्रिकेट प्रतियोगिता में नामाकन करवाकर अपनी प्रतिभा को साबित करने की ठानी है। 






अभावों असुविधाओं से ग्रस्त पहाड़ में होनहार प्रतिभायें भी अक्सर दब कर रह जाती है। लेकिन जज्बा मंजिल पाने का हो तो फिर तमाम बाधायें भी बौनी नजर आती हैं। रूद्रप्रयाग की दो बेटियों ने पहली बार अंडर-19 क्रिकेट प्रतियोगिता में पंजीकरण करवाया है और जिस जज्बे के साथ वे अपने मुकाम को पाने के लिए मेहनत कर रही हैं वह वास्तव में उनके लक्ष्य के प्रति समर्पण भाव को दर्शा रहा है। जनपद के अगस्यमुनि ब्लाॅक के पणधारा गांव की सभ्या नेगी व मरगांव की बबीता भंडारी हर रोज 3 किमी की खड़ी चढ़ाई चढ़कर जीआईसी खेड़ाखाल में अभ्यास मैच के लिए पहुँचती है। यहां उनके व्यायाम शिक्षक प्रभात सिंह पुडीर उन्हें क्रिकेट की हर बारीकियों के गुर सिखाते हैं। इन दोनो बालिकाओं का क्रिकेट के प्रति जो जूनन है उसी का नतीजा रहा कि बीते जनवरी माह में सभ्या नेगी का नेशनल ट्रायल के लिए भी चयन हो चुका था लेकिन कोविड़ के कारण यह मैच रद्द हो गया।


बीते वर्ष सभ्या और बबीता ने इण्टरमीडिएट की परीक्षा उत्तीण की तो अब उनका पूरा फोकस क्रिकेट पर ही है। अपने गांव के सीढ़ीनुमा खेतों में अपने गांव के लड़कों के साथ बचपन से ही ये दोनो होनहार बालिकायें क्रिकेट खेलती आ रही हैं। लेकिन बड़े स्तर पर जाने के लिए उचित मंच और मैदान न मिलने के कारण खुद को निखार नहीं पा रही है। 9वीं क्लास में जब व्यायाम शिक्षक प्रभात सिंह पुडींर ने बालिकाओं की प्रतिभा पहचानी तो फिर शुरू हुआ इन्हें क्रिकेट का नियमित अभ्यास करवाने का दौर। शिक्षक से मिले सहयोग से दोनो बालिकाओं ने अंडर-19 क्रिकेट प्रतियोगिता में पंजीकरण करवाया है। इसके अलावा एक अन्य छात्रा वैष्ण्व ने अंडर-16 व एक छात्र प्रवीन भण्डारी का अंडर-19 में उत्तराखण्ड की टीम में सेलेक्शन हो गया है। क्रिकेट के क्षेत्र में रूद्रप्रयाग जनपद की प्रतिभाओं का पर्दापण और खास तौर पर बालिकाओं ने भी इस क्षेत्र में अपने भविष्य को तलाशा है।


पहाड़ में प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं है लेकिन संसाधनों और उचित मंच न मिलने के कारण आज भी कई प्रतिभायें अपने हुनर का लोहा नहीं मनवा पा रहे हैं, जिस कारण ये प्रतिभायें दब कर रह जाती हैं। जरूरत है सभ्या और बबीता जैसे होनहार बालिकाओं को उचित मंच और अवसर मिलने की ताकि इन जैसी सैकड़ो बेटियां अपने हुनर को देश दुनियां के सामने ला पाये।