कोरोना से बचने के लिए ग्रामीणों ने की गांव की सीमाएं सील, दुरस्त गांव बमियाला के ग्रामीणों ने लिया ने निर्णय


कोरोना से बचने के लिए ग्रामीणों ने की गांव की सीमाएं सील, दुरस्त गांव बमियाला के ग्रामीणों ने लिया ने निर्णय

प्रवासियों को 21 दिन के लिए रहना होगा क्वारन्टीन
कोरोना महामारी के बचाव के लिए 13 सदस्यों की निगरानी टीम का किया गठन

@नवीन चंदोला/केदारखण्ड एक्सप्रेस 
नारायणबगड़।  प्रखंड के दुरस्त गांव बमियाला के ग्रामीणों ने शनिवार को गांव की बैठक में प्रस्ताव पास कर कोरोना महामारी के चलते गांव की सारी सीमाएं सील कर दी गई है।
सारा संसार कोरोना महामारी(कोविड-19)से जूझ रहा है। सरकार के द्वारा भी कोरोना से बचने के लिए कई प्रयास किए जा रहे हैं। लेकिन ग्रामीण छेत्रों में भी लोग महामारी से बचने के लिए स्वयं कई कोशिशें कर रहे हैं। प्रखंड के बमियाला गांव के ग्रामीणों ने शनिवार को ग्राम सभा की बैठक कर कई प्रस्ताव पारित किए। गांव को कोरोना से बचाने के लिए 13 सदस्यों की समिति का गठन किया गया है। गांव में प्रवासी आएंगे उन्हें 21 दिनों तक स्कूल में क्वारन्टीन रहना होगा एवं इस दौरान उनसे कोई नहीं मिलेगा ऐसा करने वालों पर सख्ती से कार्यवाही की जाएगी। इस दौरान गांव की सारी सीमाएं सील रहेंगी। ग्राम प्रधान कमलकांत ने बताया कि यदि कोई नियमों का उल्लंघन करेगा तो उसके खिलाप कड़ी कार्यवाही की जाएगी।इससे पूर्व भी ग्राम सभा झिंझोणी ने भी गांव में कोरोना से निपटने के लिए निगरानी समिति का गठन कर चुकी है। इस अवसर पर प्रधान कमलकांत,छेपंस मनोज नेगी,योगम्बर रावत,दलबीर पंवार,प्रेमसिंह,केशर सिंह,गोपाल सिंह,जीत सिंह,रघुबीर सिंह,उमराव सिंह,राजेसिंह,गब्बर सिंह कृपाल सिंह समेत बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद रहे।
कोरोना से बचने के लिए ग्रामीणों ने की गांव की सीमाएं सील, दुरस्त गांव बमियाला के ग्रामीणों ने लिया ने निर्णय कोरोना से बचने के लिए ग्रामीणों ने की गांव की सीमाएं सील, दुरस्त गांव बमियाला के ग्रामीणों ने लिया ने निर्णय Reviewed by केदारखण्ड एक्सप्रेस on June 01, 2020 Rating: 5
Powered by Blogger.