ब्रेकिंग न्यूज़ रूद्रप्रयाग: कोरोना पॉजिटिवो का अर्द्धशतक : 4 मामले और मिले, संख्या पहुँची 52, लापरवाही से बढ रहा संक्रामक


ब्रेकिंग न्यूज़ रूद्रप्रयाग: कोरोना पॉजिटिवो का अर्द्धशतक : 4 मामले और मिले, संख्या पहुँची 52, लापरवाही से बढ रहा संक्रामक 
कुलदीप राणा आजाद/ केदारखण्ड एक्सप्रेस
रूद्रप्रयाग : स्वास्थ्य विभाग की ढिलाई और लापरवाही अब पूरी तरह से सामने आ रही है। आज फिर चार केश कोरोना पॉजिटिव पाये गये हैं इसके साथ ही जनपद में कोरोना मरीजों की संख्या हाफ सेंचुरी पार कर गई है। जिनमें से दो स्थानीय लोग हैं, ये लोग भी तहसील कर्मचारियों के सम्पर्क में आये थे जो  बीते रोज कोरोना  पॉजिटिव निकले थे। 





दरअसल इस बीच स्वास्थ्य विभाग की बडी लापरवाही देखने को मिली है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा कर्मचारियों के सैम्पल तो लिए गये लेकिन उन्हें क्वारानटाइन नहीं किया जिसका नतीजा ये रहा कि ये लोग बेरोकटो सरकारी कार्यालयों, बैठकों, गाँव, बाजारों में खुले आम घुमते रहे। जब सैम्पल रिपोर्ट आई तो ये कोरोना पॉजिटिव पाये गये तब जाकर स्वास्थ्य विभाग हरकत मे आए लेकिन तब तक ये कई लोगों को संक्रमित कर चुके हैं। लापरवाही का आलम यह है कि जब सबसे पहलें शिक्षा विभाग के एक कर्मचारी की सैम्पल जांच के लिए भेजा गया था तो उसे क्वारानटाइन नही किया गया। लेकिन उसके सम्पर्क में आए लोगों को भी स्वास्थ्य विभाग ने क्वारानटाइन  नहीं किया जिस कारण बीते रोज तहसील के एक राजस्व उपनिरीक्षक और नाजीर की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आ गई थी। उससे पहले पटवारी दशूला काण्डाई क्षेत्र में कई लोगों के सम्पर्क में आ चुका है। जिस कारण आज पुनः दो लोग कोरोना संक्रमित पाये गये।
पहला सवाल यह है कि जब स्वास्थ्य विभाग ने इन सरकारी कर्मचारियों के सैंपल जांच के लिए भेजे थे तो उसके बाद इनको तुरंत क्वॉरेंटाइन क्यों नहीं किया गया?
दूसरा सवाल यह है कि जब आम आदमी कहीं बाहर से जनपद में प्रवेश कर रहा है तो उसे 14 दिन क्वॉरेंटाइन अनिवार्य रूप से किया जा रहा है लेकिन इन कर्मचारियों के सैंपल लेने के बाद भी क्वाारानटाइ क्यों नहीं किया जाा रहा है?  आखिर क्यों ये खुलेआम लोगों में कोरोना का संक्रमण फैलाते रहे। आखिर इसकी जिम्मेदारी किसकी है?
तीसरा अहम सवाल यह है कि रूद्रप्रयाग में कोरोना का स्थानीय स्तर पर समुदाय संक्रामण फैलाने में जितनी लापरवाही स्वास्थ्य विभाग की है उतनी ही उन गैर जिम्मेदार उन  सरकारी कर्मचारियों की भी जिन्हें होम क्वारानटाइन रहने के निर्देश थे लेकिन वे बाहर घुमते रहे, क्या इन पर भी आपदा प्रबंधन एक्ट व धारा 188 में कार्यवाही होगी?





पूरे मामले पर बीते रोज मुख्य चिकित्सा अधिकारी एसके झा ने बताया कि जिन कर्मचारियों के सैंपल लिए गए थे उन्हें होम क्वॉरेंटाइन रहने को कहा गया था। लेकिन अगर कोई व्यक्ति होम य क्वॉरेंटाइन की बजाई लोगों के संपर्क में आए होंगे तो उन लोगों की तलाश की जा रही है और सभी को आइसोलेट किया जाएगा।





लगातार कोरोनावायरस आंकड़े बढने से भय का माहौल पैदा हो गया हैं क्योंकि अभी तक जनपद में बाहर से आने वाले व्यक्ति ही कोरोना का पॉजिटिव पाया जा रहा था, जो पहले से ही संस्थागत क्वॉरेंटाइन किए जा चुके थे ऐसे में संक्रमण का खतरा बिल्कुल भी नहीं था लेकिन अब स्वास्थ्य विभाग और सरकारी कर्मचारियों की लापरवाही से समुदाय संक्रमण के केश लगातार बढ़ते जा रहे हैं जिसके परिणाम आने वाले दिनों में और भी भयावह वह घातक हो सकते हैं समय रहते हुए स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन को गंभीरता से कार्य करना होगा ताकि स्थानीय स्तर पर फैले संक्रमण को रोका जा सके।




ब्रेकिंग न्यूज़ रूद्रप्रयाग: कोरोना पॉजिटिवो का अर्द्धशतक : 4 मामले और मिले, संख्या पहुँची 52, लापरवाही से बढ रहा संक्रामक ब्रेकिंग न्यूज़ रूद्रप्रयाग: कोरोना पॉजिटिवो का अर्द्धशतक : 4 मामले और मिले, संख्या पहुँची 52, लापरवाही से बढ रहा संक्रामक Reviewed by केदारखण्ड एक्सप्रेस on June 17, 2020 Rating: 5
Powered by Blogger.