खबर का असर : पीएमजीएसवाई के मोटर मार्ग से उत्पन्न खतरे की दहलीज पर पहुंचे नालडूगा गाँव पहुंची प्रशासन की टीम, किया क्षति का मुआयना


खबर का असर : पीएमजीएसवाई के मोटर मार्ग से उत्पन्न खतरे की दहलीज पर पहुंचे नालडूगा गाँव पहुंची प्रशासन की टीम, किया क्षति का मुआयना 

-राजेन्द्र असवाल/ केदारखंड एक्सप्रेस
पोखरी।  बुधवार  6 मई को केदारखंड एक्सप्रेस न्यूज  ने "उडामांडा-रौता सड़क का मलवा पहुंचा नालडूंगा गांव में, प्रशासन बेखबर" नामक शीर्षक से  खबर प्रमुखता से प्रकाशित की थी। जिसका तत्काल  संज्ञान जिला प्रशासन ने लिया है। प्रशासन ने  खण्ड विकास अधिकारी  (बीडीओ) एवं राउपनिरीक्षक की टीम मौके पर भेजे। स्थित का जायजा लेकर उक्त रिपोर्ट  तहसीलदार प्रशासन  को सौंपी गई है। तहसील प्रशासन को सौंपी रिपोर्ट में  बताया गया है कि पीएमजीएसवाई लोनिवि पोखरी की उडामांडा -रौता सड़क का मलवा हाल में हो रही  बारिश के कारण  नालडूंगा गांव के पास पहुंचने से खतरा बना है। उन्होंने कहा कि वास्तव में ग्रामीणों द्वारा गांव के ऊपर बनाया गया खेल का  मैदान नही  होता तो गांव में तबाही मच जाती।

जांच टीम ने  कहा कि इस संबंध में पीएमजीएसवाई को सड़क पर पानी की निकासी के लिए नाली का निर्माण करवाकर स्कबर बनवाने के लिए  तहसीलदार काे रिपोर्ट  प्रस्तुत की गयी है। जिसमें पीएमजीएसवाई लोनिवि पोखरी को सड़क पर नाली व स्कबर बनवाने तथा बीडीओ पोखरी को गांव व सड़क के बीच चैकडैम बनवाने की कार्यवाही करवाने को कहा गया है। ताकि गांव को होने वाले खतरे से बचाया जा सके।  जाँच टीम में खंड विकास अधिकारी महेश चन्द्र वशिष्ठ, राजस्व निरीक्षक मनोहर जुयाल,राउनि एमलाल, एसके डिमरी सहित कई अन्य कर्मचारी सम्मलित थे। राजस्व विभाग ने ओलावृष्टि से फसल की क्षति का नुकसान 15 से 20 प्रतिशत माना।   
   
इससे पूर्व  केदारखंड एक्सप्रेस ने 2 मई शनिवार  को  प्रकाशित खबर, पोखरी क्षेत्र के चन्द्रशिला पट्टी के दर्जन भर से अधिक गांवो में ओलावृष्टि से फसलो को हुए नुकसान की खबर प्रकाशित की थी जिसका संज्ञान लेते हुए  राजस्व विभाग की टीम ने सभी सात रा0उ0नि0 क्षेत्रो में क्षति का आंकलन कर दिया हैै, हालांकि राजस्व विभाग की टीम ने बताया कि गेंहूं की खड़ी फसल का आेलावृष्टि से 15 से 20 प्रतिशत तक ही नुकसान हुआ है। टीम ने साग-भाजी का नुकसान होना स्वीकार किया है।  राजस्व उपनिरीक्षक क्षेत्र पाेखरी के मदनल लाल, राउनि क्षेत्र सिमलासू व थालाबैड़ के शशिकांत डिमरी,राउनि क्षेत्र देवर रडुवा के देवेन्द्र लाल,राउनि क्षेत्र मसोली के मनोज बत्र्वाल व राउनि क्षेत्र त्रिशूला के विजयकुमार ने संयुक्त जानकारी में देते हुए बताया कि उन्होने  अपने-अपने क्षेत्रो के गांवो में आेलावृष्टि से गेंहूं की फसल के नुकसान का  आंकलन  कर लिया है, फसल का नुकसान 15 से 20 प्रतिशत तक ही हुआ है। उन्होने कहा कि सरकार द्वारा 33 प्रतिशत से अधिक के नुकसान पर मुआवजा दिये जाने का प्राविधान है। बताया गया कि कास्तकारो को अपनी फसलो का बीमा करवाना चाहिए,ताकि दैवीय आपदा के कारण फसलो की क्षति होने पर बीमा प्राप्त किया जा सके ।
खबर का असर : पीएमजीएसवाई के मोटर मार्ग से उत्पन्न खतरे की दहलीज पर पहुंचे नालडूगा गाँव पहुंची प्रशासन की टीम, किया क्षति का मुआयना खबर का असर : पीएमजीएसवाई के मोटर मार्ग से उत्पन्न खतरे की दहलीज पर पहुंचे नालडूगा गाँव पहुंची प्रशासन की टीम, किया क्षति का मुआयना Reviewed by केदारखण्ड एक्सप्रेस on May 07, 2020 Rating: 5
Powered by Blogger.