लॉकडाउन के दौरान भी हिंसा से पीड़ित महिलाओं को न्याय दिलाने का कार्य मुस्तैदी से कर रहा वन स्टॉप सेन्टर

लॉकडाउन के दौरान भी हिंसा से पीड़ित महिलाओं को न्याय दिलाने का कार्य  मुस्तैदी से कर रहा वन स्टॉप सेन्टर                        
-भूपेन्द्र भण्डारी/ केदारखंड एक्सप्रेस 
रूद्रप्रयाग। पूरा देश जहां कोरोना का प्रकोप झेल रहा है, वहीं देश में दिनों- दिन घरेलू हिंसा की घटनाएं भी लगातार बढ़ रही हैं। रुद्रप्रयाग जनपद में  वन स्टॉप सेन्टर द्वारा इस दौरान हिंसा से पीड़ित महिलाओं के 4 केस दर्ज किए गए जिनमें से 1 केस पीड़ित को रात का आश्रय देने का था तथा 3 केस घरेलू हिंसा से संबंधित थे, जिनमें त्वरित कार्यवाही की गई।

जनपद के अगस्त्यमुनि विकासखण्ङ के अलग-अलग गाँवों की तीन महिलाओं के घरेलू हिंसा का शिकार होने का मामला जैसे ही वन स्टाफ सेंटर के पास आया तो सेन्टर की केंद्र प्रशासक रंजना गैरोला भट्ट द्वारा स्वयं पीड़िताओं के घर जाकर काउंसलिंग की गई। काउंसिलिंग में दो मामलों में  ससुरालियों द्वारा प्रताड़ित करने का आया। जिसमें केन्द्र प्रशासन रंजना गैरोला भट्ट ने सुलह करवा दी तथा ससुरालियों ने आश्वस्त किया कि वे पीडित महिला के साथ भविष्य में ऐसे बर्ताव नहीं करेंगे। वही एक घटना में मां को उसके बेटे और बहु द्वारा मारपीट कर घर से बेदखल करने का सामने आया, जिसमें वन स्टाफ सेंटर के हस्तक्षेप के बाद मामला कोर्ट में चला गया। इसी तरह ऊखीमठ विकासखण्ङ के एक गाँव में ससुरालियों द्वारा बहु पर अत्याचार किये जा रहे थे जिसे वन स्टाफ सेंटर की केन्द्र प्रशासक रंजना गैरोला भट्ट द्वारा मौके पर जाकर समझौता करवाया गया।


सेंटर की केन्द्र प्रशासक रंजना गैरोला भट्ट ने  बताया कि वन स्टॉप सेन्टर हिंसा से पीड़ित महिलाओं की मदद के लिए प्रतिबद्ध है । 24 घंटे किसी भी समय कोई भी पीड़ित महिला अथवा उसका कोई संबंधी सेन्टर में शिकायत दर्ज कर सकते हैं। उनकी समस्या का तत्काल समाधान करने की पूर्ण कोशिश की जाएगी।
लॉकडाउन के दौरान भी हिंसा से पीड़ित महिलाओं को न्याय दिलाने का कार्य मुस्तैदी से कर रहा वन स्टॉप सेन्टर लॉकडाउन के दौरान भी हिंसा से पीड़ित महिलाओं को न्याय दिलाने का कार्य  मुस्तैदी से कर रहा वन स्टॉप सेन्टर        Reviewed by केदारखण्ड एक्सप्रेस on May 17, 2020 Rating: 5
Powered by Blogger.