Breaking News

Sunday, 3 May 2020

बसुकेदार क्षेत्र में भारी ओलावृष्टि से गाड़ियों के शीशे चटके, फसल को पहुंचा भारी नुकसान


बसुकेदार क्षेत्र में भारी ओलावृष्टि से  गाड़ियों के शीशे चटके, फसल को पहुंचा भारी नुकसान 

-भानु भट्ट/केदारखंड केदारखंड एक्सप्रेस 
बसुकेदार।  बीते कई दिनों से दोपहर बाद मौसम अचानक ही करवट बदल रहा है और अपना रौद्र रूप दिखा रहा है स्थिति यह है बड़े-बड़े ओलावृष्टि से जहां इन दिनों गेहूं व मटर आदि की पकी फसल बर्बाद हो रही है वही साग सब्जी और फल के बाग बगीचे भी बगीचों को भी भारी नुकसान पहुंच रहा है ऐसे में जहां कोरोना महामारी से ग्रामीणों की आपकी प्रभावित हो रखी है वहीं अब ओलावृष्टि से  फसल बर्बाद होने के कारण दो जून की रोटी पर भी संकट के बादल मंडरा रहे हैं।

बसुकेदार क्षेत्र में बेरहम प्रकृति ने ऐसा रूप दिखाया कि न केवल फसलों को नुकसान हुआ बल्कि गाड़ियों के शीशे भी चटक गई जिससे लोगों को भारी नुकसान हो गया है। वर्षभर खेतों में हाड़ तोड़ मेहनत करने के बाद अब जब फसल काटने की बारी आई तो बेरहम प्रकृति ने किसानों की मेहनत पर पानी फिर दिया। रोटी प्रकृति के आगे किसान बेबस और लाचार नजर आ रहा है और अपनी मेहनत की बर्बादी देखकर वह मनमसोसकर रह गया है।

बसुकेदार के कौशलपुर प्यार का डांसिंग कि माना धानकोट सूर बांगर कौशलपुर आदि गांव में भारी ओलावृष्टि के कारण व्यापक पैमाने पर फसलों को नुकसान पहुंचा है जबकि 7 बाइक व चार गाड़ियों के शीशे भी ओलावृष्टि के कारण चटक गए हैं। जिससे लोगों को भारी नुकसान हो गया है।

प्रधान किमाना दानकोट  प्रमिला देवी, स्यूर बागर सजन सिंह, कौशलपुर प्रधान पुष्पा देवी ने बताया कि वैश्विक महामारी कोरोनावायरस के कारण जहां पहले ही लोग आर्थिक रूप से टूट चुके हैं वहीं अब मौसम की मां ने भी किसानों को बुरी तरह से प्रभावित कर दिया है ऐसे में इस संकट से उबारने के लिए सरकारों को इस वक्त किसानों की मदद करनी चाहिए।