Breaking News

Friday, 3 April 2020

तीसरी आँख की नजर में रहेगी रूद्रप्रयाग विधान सभा: पुलिस मुख्यालय से होगी निगरानी


तीसरी आँख की नजर में रहेगी रूद्रप्रयाग विधान सभा: पुलिस मुख्यालय से होगी निगरानी
-कुलदीप राणा आजाद/केदारखण्ड एक्सप्रेस 
रूद्रप्रयाग। कोरोना वायरस के खिलाफ जंग लड़ने के लिए स्वास्थ्य विभाग जहाँ व्यवस्थाओं के इंतजाम में लगा हुआ है तो वहीं दूसरी तरफ के कुछ उपद्रवी अभी भी इसे मजाक समझ रहे हैं, और खुले आम सरकार के नियम कायदों का उलंघन कर रहे हैं। ऐसे व्यक्तियों पर अब कड़ी नजर रखी जायेगी, इसके लिए विधानसभा में सीसीटीवी कैमरे लगाये जा रहे हैं। यह पहल रूद्रप्रयाग विधान सभा के विधायक भरत चैधरी द्वारा की जा रही। 
रूद्रप्रयाग विधान सभा राज्य की पहली ऐसी विधान सभा होगी जहाँ पूरी विधान सभा क्षेत्र के सभी छोटे-बड़े कस्बों और शहरों में सीसीटीवी कैमरे लगाये जा रहे है। कोरोना वायरस के खिलाफ जहाँ स्वास्थ्य महकमा पूरी व्यवस्थायें जुटाने में युद्ध स्तर पर कार्य कर रहा है तो वहीं कुछ उपद्रवी ऐसे भी हैं जो कोरोना वायरस की चैन तोड़ने के लिए किए गए लाॅकडाउन का धड़ल्ले से उलंघन कर रहे हैं। स्थिति यह है कि दिल्ली, मुम्बई, गोवा और अन्य प्रदेशों से उत्तराखण्ड के गाँवों में आकर खुद को होम कोरानटाइन करने की बजाय, गाँवों में क्रिकेट मैच, तास और अन्य गतिविधियां में शामिल हो रहे हैं। जबकि प्रशासन द्वारा ऐसे व्यक्तियों को पहले ही जिला प्रशासन द्वारा होम कोरोनटाइन किया गया। ऐसे उपद्रवियों पर पैनी नजर रहे, इसके लिए रूद्रप्रयाग के विधायक भरत सिंह चैधरी ने पूरी विधान सभा के सभी छोड़े बड़े कस्बों में सीसीटीवी कैमरे लगाने का कार्य आरम्भ कर दिया है, जिसका कंट्रोल रूम रूद्रप्रयाग पुलिस मुख्यालय में रहेगा। पुलिस के द्वारा पूरी विधान सभा में तीसरी आँख के जरिये, पूरी निगरानी रखी जायेगी। 
विधान सभा क्षेत्र में कैमरे लगाये जाने से न केवल लाॅकडाउन का उलंघन करने वाले उपद्रवियों पर कड़ी नजर रखी जायेगी बल्कि चोर-उच्चकों के साथ-साथ क्षेत्र में अन्य आपराधिक वारदातों को रोकने में भी यह कारगर सिद्ध होगा। रूद्रप्रयाग के विधायक भरत सिंह चैधरी ने बताया कि पूरी विधानसभा के सभी छोटे-बड़े कस्बों और शहरों में उच्च गुणवत्ता से युक्त सीसीटीवी कैमरे लगाये जा रहे है। उन्होंने कहा कि जहां इन दिनों कोरोना वायरस की कड़ी को तोड़ने में जो लोग सहयोग नहीं कर रहे हैं और इसे मजाक समझकर नियमों का उलंघन कर रहे हैं, उनकी निगरानी की जा सकेगी वहीं भविष्य में आपराधिक गतिविधियों को रोकने में भी यह मददगार साबित होगा।