नोएडा से आया था आरसीसी का प्रोजेक्ट मैनेजर, नहीं हुआ कोरानटाइन : प्रशासन की लापरवाही पर ग्रामीणों ने किया हल्ला


नोएडा से आया था आरसीसी का प्रोजेक्ट मैनेजर, नहीं हुआ कोरानटाइन : प्रशासन की लापरवाही पर ग्रामीणों ने किया हल्ला 

-कुलदीप राणा आज़ाद /केदारखंड एक्सप्रेस 
रूद्रप्रयाग। कोरोना वायरस के कारण हो रखे लाकडाउन के बावजूद भी कई लोग नियमों को ताक पर रख रहे है इसमे संदेह नहीं है कि इसमें प्रशासन की मिलीभगत न हो। आलवेदर निर्माण का कार्य कर रही आरसीसी कम्पनी का प्रोजेक्ट मैनेजर  नोएडा से रूद्रप्रयाग पहुंच गया लेकिन उन्हें प्रशासन ने क्वारानटाइन करने की जहमत  नहीं उठाया। ऐसे में कोरोना वायरस को फैलाने में प्रशासन की भूमिका भी महत्वपूर्ण मानी जा रही है।
जानकारी के मुताबिक बीते रोज करीब दोपहर ढाई बजे आलवेदर निर्माण कार्य कर रही कार्यदायी संस्था आरसीसी का प्रोजेक्ट मैनेजर मनन पाण्डेय नोएडा से रूद्रप्रयाग के सुमेरपुर पहुंच, लेकिन उन्हें प्रशासन ने क्वारानटाइन नहीं किया। नोएडा से यहा आने बाद ही मनन पाण्डेय तिलणी, सुमेरपुर, रतूङा, कलना आदि जगहों पर बेरोकटोक घूमता रहा। स्थानीय लोगों को इसकी भनक लगी तो उन्होंने जिला आपदा कंट्रोल रूम, उपजिलाधिकारी बृजेश तिवारी को इसकी सूचना दी लेकिन प्रशासन की लापरवाही देखिए कल से आज दोपहर 12 बजे तक भी मनन पाण्डेय को  क्वॉरेंटाइन नहीं किया गया। करीब  24 घंटे तक यह व्यक्ति न जाने कितने लोगों के सम्पर्क में आया होगा। प्रशासन की इस हीलाहवाई पर सुमेरपुर के  महावीर रौथाण, नरेन्द्र रावत, संजय राणा वीरेन्द्र बिष्ट आदि लोगों ने हो हल्ला कर प्रशासन से इन्हें क्वारानटाइन करने की मांग की। तब जाकर करीब 12 बजे नोडल अधिकारियों की टीम यहाँ पहुँची और इन्हें सुमेरपुर स्थित बलबीर पैलेस में क्वारानटाइन किया। उधर इस मामले में  जब हमने  उप जिलाधिकारी से बात करने चाही तो उन्होंने फोन नहीं उठाया। ऐसे में कई सवाल उठते हैं- 
सबसे पहला सवाल तो यह है कि जब पूरे देश में सम्पूर्ण लाकडाउन चल रहा है तो आरसीसी का प्रोजेक्ट मैनेजर मनन पाण्डेय नोएडा से रूद्रप्रयाग कैसे आ गया?
दूसरा सवाल यह है कि दिल्ली नोएडा जैसे राज्य में कोरोना ने हाहाकार मचा रखा है ऐसे में इन्हें उत्तराखंड आने की परिमिशन कैसे मिल गई?
तीसरा सवाल यह है कि जब यह रूद्रप्रयाग की सीमा में प्रवेश हुआ तो उन्हें तत्काल क्वारानटाइन क्यों नही किया गया? 
ये ऐसे सवाल हैं जो जिला प्रशासन रूद्रप्रयाग की कोरोना के विरूद्ध लडी जा रही लडाई की पोल खोल रही है। बडी बडी बातें करने वाला रूद्रप्रयाग प्रशासन अगर ऐसी लापरवाही करता रहे तो यह आने वाले दिनों में कोरोना जैसे गम्भीर संकट की ओर ढकेल रहा है। 
उधर मुख्य चिकित्सा अधिकारी एस के झा ने बताया कि नोएडा से आए मनन पाण्डेय को क्वारानटाइन किया गया है। फिलहाल वे स्वस्थ हैं
नोएडा से आया था आरसीसी का प्रोजेक्ट मैनेजर, नहीं हुआ कोरानटाइन : प्रशासन की लापरवाही पर ग्रामीणों ने किया हल्ला नोएडा से आया था आरसीसी का प्रोजेक्ट मैनेजर, नहीं हुआ कोरानटाइन : प्रशासन की लापरवाही पर ग्रामीणों ने किया हल्ला Reviewed by केदारखण्ड एक्सप्रेस on April 23, 2020 Rating: 5
Powered by Blogger.