राष्ट्रीय बालिका दिवस बेटियों की उपलब्धि पर तैयार कलेण्डर तथा बेटियों के नाम की नेमप्लेट का विमोचन

राष्ट्रीय बालिका दिवस बेटियों की उपलब्धि पर तैयार कलेण्डर तथा बेटियों के नाम की नेमप्लेट का विमोचन

-भूपेंद्र भंडारी केदारखंड एक्सप्रेस

रुद्रप्रयाग। महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास विभाग द्वारा राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओं योजनान्तर्गत घाट पर विभिन्न विद्यालयों की भाषण, चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। 

इस अवसर पर जिलापंचायत अध्यक्ष, विधायक रुद्रप्रयाग व जिलाधिकारी ने बालविकास विभाग द्वारा जनपद की बेटियों की उपलब्धि पर तैयार कलेण्डर तथा बेटियों के नाम की नेमप्लेट का विमोचन किया।इस अवसर पर जनपद की बेटियों के नाम के नेमप्लेट अभिभावक को दिये गए। कहा कि बेटियो के नमेप्लेट लगाकर अपनी पहचान बनाय। चित्रकला व निबंध प्रतियोगिता में बालिकाओं का ही वर्चस्व रहा तथा जूनियर व सीनियर विंग के प्रथम तीन विजेताओं को प्रशस्ति पत्र व वॉच देकर सम्मानित किया गया।
कार्यक्रम में मुख्य अतिथि जिला पंचायत अध्यक्ष अमरदेई शाह ने उपस्थित सभी को बालिका दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं देते हुय कहा कि मुझे उम्मीद है कि इस तरह के कार्यक्रम से लोगो की मानसिकता में बदलाव आएगा। विधायक रुद्रप्रयाग भरत सिंह चौधरी ने बेटियों को हीरे की उपमा दी। कहा कि प्राचीन समय से  महिलाये प्राकृतिक रूप से पुरुषो की अपेक्षा बलवान रही है किंतु आज के युग में महिलाओं ने वैज्ञानिक दृष्टिकोण से स्वयं को अधिक प्रतिभाशाली सिद्ध किया है। जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने कहा कि महिलाएं अपने आप मे संपूर्ण है। 
इससे पूर्व नगरपालिका सभागार में जनपद के विभिन्न धर्मो के धर्म गुरूओं की कार्यशाला का आयोजन किया गया। 

कार्याशाला की अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने उपस्थित धर्मगुरूओं व अन्य लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि समाज में धर्मगुरू का विशेष महत्व है। शिशु के जन्म से लेकर मृत्यु तक होने वाले समस्त संस्कार धर्मगुरू से ही सम्पन्न होते है। कहा कि शिशु का जन्म जिस घर में होता है, उसी धर्म से वह शिशु भी जुड़ जाता है तथा समस्त क्रियाकलाप उसी धर्म के अनुसार सम्पन्न होते है। 
हमारी धर्मगुरूओं से अपेक्षा है कि वे अपने-अपने धर्मो के माध्यम से अपने समुदाय को लिंग समानता, बेटी का सम्मान आदि की शिक्षा दे। मुझे उम्मीद है कि सभी धर्म गुरू लोगों को बेटा-बेटी एक समान की शिक्षा देगे। सभी धर्मगुरूओं ने अपने वक्तव्यों में भी बताया कि बेटियां अनमोल है। उन्हें अच्छी परवरिश व तालीम दी जानी चाहिए। आज हमारे समाज में कई उदाहरण है जहां बेटियों ने अपने आप को सफल सिद्ध किया है। आज महिलायें उच्च पदांे से लेकर पारिवारिक दायित्व (अन्त्येष्टि, अन्तिम संस्कार) में भी अपना योगदान दे रही है।  कार्यक्रम में आचार्य सुखदेव सिलोरी, सिख धर्म के सुरेंदर सिंह, इस्लाम के इमाम साहिब, मोहमद नावेद, जिला विकास अधिकारी मनविंदर कौर, कार्यक्रम अधिकारी हिमांशु बडोला, शिक्षा अधिकारी लक्ष्मण सिंह दानू सहित विद्यालय के शिक्षक व बच्चे उपस्थित थे।
राष्ट्रीय बालिका दिवस बेटियों की उपलब्धि पर तैयार कलेण्डर तथा बेटियों के नाम की नेमप्लेट का विमोचन राष्ट्रीय बालिका दिवस बेटियों की उपलब्धि पर तैयार कलेण्डर तथा बेटियों के नाम की नेमप्लेट का विमोचन Reviewed by केदारखण्ड एक्सप्रेस on January 24, 2020 Rating: 5
Powered by Blogger.