रूद्रप्रयाग में हिंसा से पीड़ित महिलाओं को मिल रहा है वन स्टॉप सेंटर से लाभ, 4 महीने में 29 केस पहुंच चुके हैं सेंटर में

रूद्रप्रयाग में हिंसा से पीड़ित महिलाओं को मिल रहा है वन स्टॉप सेंटर से लाभ, 4 महीने में 29 केस पहुंच चुके हैं सेंटर में

- भूपेंद्र भंडारी/ केदारखंड एक्सप्रेस
रूद्रप्रयाग। भारत सरकार के महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा हिंसा से प्रभावित महिलाओं को संरक्षण, मार्ग-दर्शन और सहायता देने के लिए देश के प्रत्येक जिलों में वन स्टॉप सेंटर की स्थापना की जा रही है। इसका मुख्य उद्देश्य निजी अथवा सार्वजनिक स्थानों पर शारीरिक, मानसिक, यौन, आर्थिक हिंसा/दुर्व्यवहार से ग्रस्त महिलाओं को चिकित्सा, मनोवैज्ञानिक, कानूनी सहायता उपलब्ध कराने का है।
रूद्रप्रयाग जिला मुख्यालय में इस सेंटर ने सितंबर 2019 से कार्य आरंभ कर दिया है। इसमें श्रीमती रंजना गैरोला भट्ट केंद्र प्रशासक के रूप में कार्य कर रही हैं। उनके अलावा वकील, काउंसलर, पैरामेडिकल, आई. टी., हेल्पर और सिक्योरिटी गार्ड भी सेन्टर में कार्यरत हैं।


अब तक दर्ज हो चुके हैं 29 केस चार मामले न्यायालय में चल रहे

अभी तक सेन्टर में 29 मामले दर्ज हो चुके हैं, जिनमें से 4 मामले माननीय न्यायालय में चल रहे हैं और बाकी मामलों में दोनों पक्षों की काउंसलिंग कर समझौते किये गए हैं। 
    केंद्र प्रशासक ने बताया कि जिन मामलों में समझौते किये गए हैं, उन महिलाओं से सेन्टर द्वारा लगातार संपर्क भी किया जाता है ताकि उनके बारे में जानकारी प्राप्त होती रहे। पीड़ित महिला को बताया जाता है कि कोई भी परेशानी होने पर तत्काल सेन्टर से संपर्क स्थापित कर अपनी समस्या से उनको अवगत कराये ताकि आवश्यक कार्यवाही की जा सके। इसके अलावा समस्त ग्राम प्रधानों, पटवारियों, थानों एवं अन्य अधिकारियों से सेन्टर लगातार संपर्क में रहता है ताकि जरूरत पड़ने पर उनकी सहायता ली जा सके। 

वन स्टॉप सेंटर का भवन इस माह होगा बनकर तैयार

नए भवन का निर्माण पुराने नगरपालिका भवन पर किया जा रहा है, जो इस माह के अंत तक पूर्ण हो जाएगा। फिलहाल यह सेन्टर पुराने विकास भवन के भूतल में स्थापित है।जहां कोई भी पीड़ित महिला संपर्क कर सकती है। यदि वो स्वयं संपर्क नहीं कर सकती है तो कोई अन्य व्यक्ति भी सेन्टर को सूचना उपलब्ध करा सकता/सकती है ताकि पीड़ित महिला की सहायता की जा सके। रुद्रप्रयाग वन स्टॉप सेन्टर हर प्रकार की पीड़ित महिला की सहायता के लिए प्रतिबद्ध है।
रूद्रप्रयाग में हिंसा से पीड़ित महिलाओं को मिल रहा है वन स्टॉप सेंटर से लाभ, 4 महीने में 29 केस पहुंच चुके हैं सेंटर में रूद्रप्रयाग में हिंसा से पीड़ित महिलाओं को मिल रहा है वन स्टॉप सेंटर से लाभ, 4 महीने में 29 केस पहुंच चुके हैं सेंटर में Reviewed by केदारखण्ड एक्सप्रेस on January 06, 2020 Rating: 5
Powered by Blogger.