पालिका की बोर्ड बैठक अखड़ा बनते बनते रह गई, सभासद और अध्यक्ष में छिड़ा है संग्राम

पालिका की बोर्ड बैठक अखड़ा बनते बनते रह गई, सभासद और अध्यक्ष में छिड़ा है संग्राम

डैस्क केदारखण्ड एक्सप्रेस 
रूद्रप्रयाग। नगर पालिका परिषद रूद्रप्रयाग के भीतर सब कुछ ठीक ठाक नहीं चल रहा है। इसका अंदाजा इस बात से लगातया जा सकता है कि अध्यक्ष और सभासद अलग-अलग धड़ों में बटते हुए नजर आ रहे हैं। यह सब उस वक्त खुलकर सामने आया जब नगर पालिका की आज बोर्ड बैठक में संग्राम मच गया। नौबत गाली-गौलौच और अमयादित भाषा के प्रयोग तक पहुँच गई। जिसके बाद अध्यक्ष बोर्ड की बैठक छोड़कर बाहर निकल गई। गनिमत रही ही पालिका की बोर्ड बैठक अखाड़े में तब्दील नहीं हुई। बहरहाल सभासदों में अध्यक्ष के बीच संग्राम छिडा हुआ है।  
दरअसल आज नगर पालिका सभागार में पालिका की बोर्ड बैठक ओजित की गई थी। बैठक की कार्यवाही आरम्भ की गई तो सभासदों ने अध्यक्ष से पालिका द्वारा किए गए कार्यों की जानकारी लेनी शुरू कर दी। खास तौर पर पिछले दिनों बिना बोर्ड बैठक में प्रस्ताव पास हुए ही निविदाएं टेंडर निकलने को लेकर सवाल किए गए। जिसमें नगर पालिका अध्यक्ष गीता झिक्वाण द्वारा अपने पति देवेन्द्र झिक्वाण को बोर्ड बैठक में बुलाया गया। बस इसी बात को लेकर सभी सात सभासदों ने अध्यक्ष के पति का यह कहकर विरोध किया कि पालिका की बोर्ड बैठक में निणर्य और जवाब देने की जिम्मेदारी अध्यक्ष की है न कि उसके पति की। सभासदों का आरोप है कि अध्यक्ष पति का बोर्ड बैठक से बहिष्कार करने पर वे बौखला गए और उन्होंने सभी सभासदों को गाली-गौलोच की। कुछ देर चली इस तीखी बहस के बाद नगर पालिका अध्यक्ष भी बैठक छोड़कर बाहर चली गई। 
इधर सभासदों द्वारा भी बोर्ड बैठक का बहिष्कार किया जा रहा था लेकिन नगर पालिका अधिशासी अधिकारी सीमा रावत के अनुरोध पर सभासदों की सहमति से प्रभारी बोर्ड बैठक की अध्यक्ष रूकमणी देवी को बनाया गया और बोर्ड बैठक सम्पन्न की गई। 

नगर पालिका में नियमों को ताक पर रखकर हो रहे कार्य 

नगर पालिका परिषद के सभी सात सदस्यों ने पालिका अध्यक्ष और कार्यालय कर्मचारियों पर अरोप लगाया कि वे नियमों को ताक पर रखकर निर्माण कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बिना सभासदों को विश्वास लिए और बोर्ड बैठक में बिना प्रस्ताव पास किए हुए ही कई निर्माण कार्यों के टेंडर निकाले जा चुके हैं। सभासद सुरेन्द्र रावत, अंकुर खन्ना, संतोष रावत सहित सभी सभासदों ने कहा कि नगर पलिका अध्यक्ष गीता झिक्वाण के पति देवेन्द्र झिक्वाण द्वारा पालिका के कार्यों में हस्तक्षेप किया जा रहा है। वहीं उन्होंने बैठक में यह बात भी कहीं कि पालिका को दलालों का अड्डा बनाया हुआ है। अध्यक्ष पति द्वारा अपने चेहतों को पालिका के कार्य दिए जा रहे हैं। जबकि नियमों के अनुसार बोर्ड बोर्ड में उपस्थित होने और उसमें निर्णय लेने का अधिकार केवल चयनित सभासदों और अध्यक्ष का होता है, लेकिन यहां अध्यक्ष के पति द्वारा खुले बोर्ड बैठक में आकर दादागिरी की जाती रही है। 
दीवार दे दी अपनी मर्जी से और बता दिया बोर्ड बैठक में पास हुई, तहसीलदार को भी किया गुमराह
बोर्ड बैठक में यह बिन्दु भी प्रमुखता से उभर कर आया कि पालिका के भवन पर मीट का व्यवसाय कर रहे रविपाल की दकान एक तरफ साजिशन दीवार लगा दी गई। जब उक्त व्यापारी द्वारा इसकी शिकायत जिलाधिकारी को की गई तो नगर पालिका द्वारा तहसीलदार को गुमराह करते हुए यह बताया गया कि यह दीवार पालिका की बोर्ड बैठक में सभी सभासदों की आम सहमति से पास हुई है। जबकि सभासदों ने इसे सिरे से नकारते हुए कहा कि यह अपने लोगों को फायदा देने के लिए पालिका अध्यक्ष और कर्मचारियों की साजिश है। 
उधर नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी सीमा रावत ने बताया कि पालिका की बोर्ड बैठक प्रभारी अध्यक्ष रूकमणी देवी की अध्यक्षता में सम्पन्न की गई। सभासदों की काफी शिकायतें हैं जिनकी सभी पहलुओं को भलि भांति जांच कर निराकरण किया जायेगा। बोर्ड के सभी सदस्यों में आपसी समाजस्य बिठाकर कार्य किया जायेगा।
बहरहाल रूद्रप्रयाग पालिका में छिड़ी इस जंग में एक बात तो साफ है कि यह लडाई केवल अपनी महत्वाकांक्षाओं के चल रही है जिससे विकास कार्य प्रभावित हो रहा है। 
पालिका की बोर्ड बैठक अखड़ा बनते बनते रह गई, सभासद और अध्यक्ष में छिड़ा है संग्राम पालिका की बोर्ड बैठक अखड़ा बनते बनते रह गई, सभासद और अध्यक्ष में छिड़ा है संग्राम Reviewed by केदारखण्ड एक्सप्रेस on December 19, 2019 Rating: 5
Powered by Blogger.