Breaking News

Thursday, 26 December 2019

जर्जर भवन के नीचे तालिम ले रहे नौनिहाल, अनहोनी के इंतजार में जिम्मेदार

जर्जर भवन के नीचे तालिम ले रहे नौनिहाल, अनहोनी के इंतजार में जिम्मेदार
तस्वीर में देखिए विद्यालय भवन की जर्जर स्थिति 

-नीरज कण्डारी/केदारखण्ड एक्सप्रेस
पोखरी।  शिक्षा विभाग किस कदर नौनिहालों के जीवन के साथ खिलवाड़ कर रहा है इसकी बानगी जनपद चमोली के विकास खण्ड पोखरी  में साफ तौर पर देखा जा सकता है। जहां जूनियर हाईस्कूल गुडम का भवन कभी भी किसी बडे हादसे को जन्म दे सकता है। 

राजकीय जूनियर हाईस्कूल गुडम के भवन का निर्माण वर्ष 2004-05 में हुआ था, जो मात्र 14-15 साल में ही जर्जर हो चला है। बताया जा रहा है कि  इस विद्यालय में पहले 25 से 30 बच्चे  पढ़ते थे लेकिन  लगातार विद्यालय की दयनीय स्थिति के कारण अभिभावकों ने अपने पाल्यो को अन्यंत्र दाखिला दिला दिया है। वर्तमान में स्थित यह है कि अब इस विद्यालय में मात्र 15 बच्चे अध्ययनरत हैं। जो नौनिहाल यहां  हैं वे भी डर के साये में पढाई करने को मजबूर हैं। बरसात में  पूरे विद्यालय भवन की छत टपकती है जिससे नौनिहालों और अध्यापकों को पाठन पठन करने में भारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। जबकि इन दिनों भी अक्सर छत से सिमेंट के टूकडे गिरकर छात्रों के सिर में पढते हैं। अभिभावकों द्वारा कई बार इस सम्बन्ध में जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों को अवगत करा दिया है लेकिन कोई सुध लेने को तैयार नहीं है। ऐसे में नौनिहाल जर्जर भवन के नीचे तालिम लेने को विवश हैं तो किसी बडी अनहोनी के इंतजार में  जिम्मेदार नजर आ रहे हैं। 

उधर  उपखण्ड शिक्षा अधिकारी भाष्करानंद बेबनी का  कहना है कि  कई बार इस विद्यालय भवन का प्रस्ताव उच्चाधिकारियों के पास भेजा गया है लेकिन मरम्मत के लिए धनराशि न मिलने के कारण इस पर कार्य नहीं हो रहा है।
Adbox