Breaking News

Monday, 23 December 2019

आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों का धरना जारी, सरकार के विरूद्ध की नारेबाजी, गांव में स्वास्थ्य सेवाएं पटरी से उतरी

आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों का धरना जारी, सरकार के विरूद्ध की नारेबाजी, गांव में स्वास्थ्य सेवाएं पटरी से उतरी 

डैस्क केदारखण्ड एक्सप्रेस 
रुद्रप्रयाग। आंगनबाड़ी कार्यकत्री, सेविका एवं मिनी कर्मचारियों का धरना-प्रदर्शन 17वें दिन भी जारी रहा। जनपद के तीनों ब्लाॅकों में विभिन्न मांगों को लेकर कार्यकत्रियां कार्य बहिष्कार पर हैं। इससे ग्रामीण स्वास्थ्य सेवाओं और आंगनबाड़ी में पढ़ रहे बच्चों का पठन-पाठन प्रभावित हो रहा है। आप

समान कार्य का समान वेतन, विभागीय पदोन्नति, आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को वरीयता के अनुसार प्रतिवर्ष मानदेय वृद्धि, दीपावली बोनस सहित करीब दस मांगों को लेेकर आंगनबाड़ी कार्यकत्री, सेविका एवं मिनी कर्मचारी विगत 13 दिसंबर से अनिश्चित कालीन धरना प्रदर्शन कर अपना विरोध जताकर सरकार के खिलाफ मुखर हैं। कार्यकत्रियों का कहना है कि सरकार पूरी तरह से गूंगी-बहरी है जो लंबे समय से उनकी जायज मांगों पर ध्यान नही दे रही है। लेकिन अब उन्होंने निर्णय लिया है कि जब तक उनकी मांगें नही मानी जाती तब तक वे पीछे नही हटेंगी।।

आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों के धरने को समर्थन देने पहुंचे जन अधिकार मंच के अध्यक्ष मोहित डिमरी ने कहा कि वास्तव में आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों की मांगें जायज हैं। उन्होंने कहा कि इतने कम वेतन में किसी का भी गुजारा  संभव नही है। कहा कि महिलाएं पहाड़ की रीढ़ हैं। स्वास्थ्य, आंगनबाड़ी सहित अन्य विभागों के कार्य करने के अलावा महिलाएं घर का भी पूरा कार्य करती हैं। ऐसे में सरकार को उनकी मांगों पर सकारात्मक कार्यवाही करनी चाहिए। धरना देने वालों में संगठन की जिलाध्यक्ष सुनीता बत्र्वाल, उपाध्यक्ष कांती बिष्ट, ब्लाॅक अध्यक्ष सुरजी नेगी, सुशीला देवी, रेखा गैरोला, शांति खन्ना, गायत्री जगवाण, सुलेखा, रेखा आदि मौजूद रही।
Adbox