Breaking News

Tuesday, 8 October 2019

पहाड़ी भोजन का लुत्फत उठाया आचार्य बालकृष्ण ने

पहाड़ी भोजन का लुत्फत उठाया आचार्य बालकृष्ण ने

-भूपेन्द्र भण्डारी /केदारखण्ड एक्सप्रेस 
सोनप्रयाग। पतंजलि के आचार्य बालकृष्ण और उनके साथ 250 स्वामियों ने पहाड़ी किचन में पहाड़ के विभिन्न उत्पादों से बने भोजन का लुत्फ उठाया। मंगलवार सुबह साढे पांच बजे बालकृष्ण का यह दल केदारनाथ से सोनप्रयाग के लिए रवाना हुआ था और इनका पहला दल 9:30 बजे सोनप्रयाग के पहाड़ी किचन में पहुंचा । पहाड़ी किचन में आज का दिन का खाना तैयार था जिसमें मूली का थिचवानी, कंडाली का साग, मंडुवे की पूरी और रोटी, गैथ का फ़ाणा, ककड़ी का रायता, झंगोरे की खीर, चावल और सलाद था, जलपान गृह में अरसे, रोटने, दाल के पकोड़े, चटनी और चाय थी ।  आचार्य बालकिशन जी 12 बजे के लगभग पहाड़ी किचन सोनप्रयाग  पहुचे उन्होंने सभी खाने का स्वाद चखा, जिसमे से उन्होंने अरसे, रोटने, दाल के पकोड़े, चटनी और गढ़वाली पिसा हुआ नमक को साथ मे ले जाने को कहा, एक रिंगाल की छोटी कंडी में हमने उन्हें ये कलाऊ के रूप में भेंट किया ।