नशेडी शिक्षक की शर्मनाक करतूत, शिक्षा विभाग ने की निलंम्बन की कार्यावाही

नशेडी शिक्षक की शर्मनाक करतूत, शिक्षा विभाग ने की निलंम्बन की कार्यावाही 
डैस्क केदारखण्ड एक्सप्रेस न्यूज 
रूद्रप्रयाग। गुरू का दर्जा समाज में ईश्वर से भी ऊपर माना जाता है, लेकिन रूद्रप्रयाग से एक ऐसा मामला प्रकाश में आया जिसने गुरू की सारी मार्यादाएं तार-तार कर दी है। विकाखण्ड उखीमठ के राजकीय हाईस्कूल जाल मल्ला के नशेड़ी प्रधानाचार्य का एक ऐसा शर्मनाक आॅडियों सामने आया जिसे सुनकर आपका भी गुरू के ऊपर से भरोसा उठ जायेगा। पहले आप ये आॅडिये सुनिए फिर आपको बताते हैं पूरा प्रकरण क्या है- 




तो सुना आपने प्रधानाचार्य कैसे बेतुके और शर्मनाक बाते कर रहा है। जरा ध्यान से सुनिये प्रधानाचार्य अभिभावक से कह रहा है कि आपका बच्चा मर चुका है। अब जब यह आॅडियों सोशल मीडिया में वायरल हुआ तो शिक्षा विभाग भी हरकत में आया। मुख्य शिक्षा अधिकारी चित्रानंद काला का कहना है कि संबंधित प्रधानाचार्य के विरूद्ध कार्यावाही की जा रही है। 
दअसल मामला 9 दिसाम्बर का है। उखीमठ के जाल मल्ला हाईस्कूल के प्रधानाचार्य प्रमोद सेमवाल अपने विद्यालय के कक्षा 10वीं में पढ़ने वाले 16 वर्षीय छात्र भूपेन्द्र को चित्रकला प्रतियोगिता में सम्मलित होने के लिए इण्टर काॅलेज उखीमठ लेकर आए थे। चित्रकला प्रतियोगिता समाप्त होने के बाद प्राचार्य द्वारा छात्र को खाना खाने के लिए 100 रूपये दिए और कहा कि खाना खाने के बाद कालीमठ बैंड पर मेरा इंजजार करना में बिजली का बिल जमा करने जा रहा हू वापस आकर तुझे गांव तक छोड़ दूगा। तीन-चार घटे के इंतजार के बाद जब प्राधानाचार्य आए तो शराब के नशे में धुत थे, और वहां पर हल्ला करने लगे। किसी तरह छात्र दूसरी गाड़ी से घर निकल गया। इधर घर में देर शाम तक भी जब बच्चा घर नहीं पहुंचा तो अभिभावकों की चिंता जायज थी। और उन्होंने सबसे पहले प्रधानाचार्य को फोन लगाया। लेकिन प्रधानाचार्य ने जो कुछ अभिवकों को कहा वह बेहद ही शर्मनाक है जिसने पूरे शिक्षा जगत को कलंकित किया। अब देखना होगा कि शिक्षा विभाग इस नशेड़ी प्रधानाचार्य के खिलाफ कितना सख्त कदम उठाती है। 
नशेडी शिक्षक की शर्मनाक करतूत, शिक्षा विभाग ने की निलंम्बन की कार्यावाही नशेडी शिक्षक की शर्मनाक करतूत, शिक्षा विभाग ने की निलंम्बन की कार्यावाही Reviewed by केदारखण्ड एक्सप्रेस on September 11, 2019 Rating: 5
Powered by Blogger.