डेंगू की दोहरी मार से त्रस्त मरीज: पैथोलाॅजी संचालकों की मनमानी पड़ रही भारी, प्रशासन का नहीं कोई अंकुश

 डेंगू की दोहरी मार से त्रस्त मरीज: पैथोलाॅजी संचालकों की मनमानी पड़ रही भारी, प्रशासन का नहीं कोई अंकुश

-अंकित साह/केदारखण्ड एक्सप्रेस 
हल्द्वानी। डेंगू से नैनीताल जिले में हाहाकार मचा हुआ है ,अब तक सरकारी आॅकड़ो के अनुसार अकेले हल्द्वानी में डेंगू के मरीज 800 से ऊपर पहुंच चुके है। डेंगू मरीजों से अस्पताल भरे पड़े हैं, लेकिन निजी अस्पतालों और पैथोलॉजी संचालको की मनमानी से मरीजों के साथ-साथ तीमारदारों पर दोहरी मार पड़ रही है। 
पैथोलॉजी संचालको की मनमानी से गरीब और मध्यम वर्गीय परिवारों की जेब पर डाका डाला जा रहा है। मनमाने तरीके से तीमारदारों से वसूली की जा रही है। निजी अस्पतालों के रवैये से पहले ही डेंगू मरीज पीड़ित है और अब पैथोलॉजी संचालको ने मरीज को जीते जी मारने का काम किया है। निजी पैथोलॉजी लैब संचालकों द्वारा बढ़ाये गए डेंगू टैस्टों के दामों को लेकर मरीज परेशान हैं और डेंगू पर सरकार को फेल बताते हुए मनमानी करने वाले प्राइवेट पैथोलॉजी सेन्टरों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही करने की मांग कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि सरकार को डेंगू की जांच मुफ्त करनी चाहिए जिससे परेशान मरीजों को राहत मिल सके ।

वही जिले के स्वास्थ्य महकमे की नींद तब खुली जब पैथोलॉजी लैबों की मनमानी की खबर मीडिया द्वारा प्रसारित की गई, हालांकि एसीएमओ नैनीताल ने भी माना कि डेंगू से हल्द्वानी क्षेत्र बहुत प्रभावित है और भरोसा भी दिलाया कि आईएमए और स्वास्थ्य विभाग के बीच वार्ता कर इस समस्या का समाधान निकालने का प्रयास किया जाएगा। जिससे मरीजों को राहत मिल सके ।

डेंगू से भले ही प्रदेश में हाहाकार मचा हो, लेकिन त्रिवेंद्र सरकार अभी तक डेंगू से निपटने के कारगर उपाय नही खोज पाई है , हल्द्वानी में स्वास्थ्य बिभाग द्वारा डेंगू का स्थायी समाधान खोजने के बजाय सिर्फ प्रयास किये जाने की बात से यह स्पष्ट होता है कि सरकार और स्वास्थ्य बिभाग खतरनाक होते डेंगू पर कितनी संजीदगी से काम कर रहा है
मौत के मुँह में धकेलने वाली इस खतरनाक बीमारी से मरीज और और तीमारदार दोनों त्रस्त हैं लेकिन निरकुंश पैथोलाॅजी लैबों पर नकेल कसने की न तो स्वास्थ्य विभाग जहमत उठा रहा है और न जिला प्रशासन ऐसे डेंगू के कहर के सामने तंत्र की खामोशी लोगों में आक्रोश भर रही है और सरकार और प्रशासन दोनों को कटघरे में खड़ी कर रही है।
नुक्कड़ नाटक के जरिए चलया जागरूकता अभियान 
बढ़ते डेंगू को देखते हुए अब स्कूली छात्र छात्रायें जनता को जागरूक करने का काम रहे हैं, नगर निगम हल्द्वानी के अनुरोध पर कई स्कूलों के बच्चो ने नुक्कड नाटक किये, स्लोगन के साथ जनता से अपील की कि डरने की कोई जरूरत नही है, ड़ेंगू से बचाव कैसे किया जा सकता है उन चीजों पर ज्यादा ध्यान दिया जाए, यह इसलिए जरूरी है की ड़ेंगू बढ़ता जा रहा है, लिहाजा ड़ेंगू से डरें नही, इसके उपाय और बचाव को समझें, स्कूली बच्चे अब समय समय पर अलग अलग जगहोँ पर जन जागरूकता अभियान चलाएंगे, शिक्षकों ने भी बच्चों की इस पहल को बेहतर बताते हुए कहा की ड़ेंगू जैसी बीमारी में जागरूकता ही बचाव है,  जनता को जागरूक करने के लिए स्कूली बच्चों ने ेजपसस ूंजमत इतममक, बारिश में  बढ़ता है ड़ेंगू का प्रभाव जैसे स्लोगन का प्रयोग किया
नुक्कड़ नाटक के जरिये, जानजागरूकता अभियान चालाते स्कूली छात्रायें 

डेंगू की दोहरी मार से त्रस्त मरीज: पैथोलाॅजी संचालकों की मनमानी पड़ रही भारी, प्रशासन का नहीं कोई अंकुश  डेंगू की दोहरी मार से त्रस्त मरीज: पैथोलाॅजी संचालकों की मनमानी पड़ रही भारी, प्रशासन का नहीं कोई अंकुश Reviewed by केदारखण्ड एक्सप्रेस on September 17, 2019 Rating: 5
Powered by Blogger.