रूद्रप्रयाग महाविद्यालय में निरविरोध सजा जय हो के सिर ताज

रूद्रप्रयाग महाविद्यालय में निरविरोध सजा जय हो के सिर ताज 
जीत के बाद अध्यक्ष को कंधे पर उठाते समर्थक

-केदारखण्ड एक्सप्रेस डैक्स
रूद्रप्रयाग। महाविद्यालय रूद्रप्रयाग में इस वर्ष छात्र संगठन ग्रुप ‘‘जय हो’’ की चिरप्रतिद्वंदी संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद चुनाव मैदान में ही नहीं उतरी। वजह यह थी कि एवीवीपी के पास कोई भी ऐसा उम्मीदद्वार नहीं था जो ‘जय हो’ के खिलाफ लड़े सके। ऐसे में अध्यक्ष, उपाध्यक्ष महासचिव, सहसचिव,कोषाध्यक्ष, विश्वविद्यालय प्रतिनिधि पदों पर केवल जय हो द्वारा नामांकन किया गया। किसी विपक्षी संगठन का नामांकन न होने से स्वतः ही निरविरोध जय हो के प्रतिनिधि चुने गये।
महाविद्यालय के मुख्य चुनाव अधिकारी डाॅ सुरेन्द्र सिंह और प्राचार्य व संरक्षक डाॅ0 विश्वनाथ खाली ने औपचारिक रूप से अध्यक्ष पद पर सम्पन्न नेगी, उपाध्यक्ष पद पर मनीषा बिष्ट, महासचिव रविन्द्र सिंह, कोषाध्यक्ष अतुल सिंह, विश्वविद्यालय प्रतिनिधि (यूआर) पर पंकज कुमार चुने जाने की घोषणा की। इसके बाद छात्रों ने मुख्य बाजार रूद्रप्रयाग में विजयी रैली निकालकर जीत का जश्न मनाया।
दअसल पिछले वर्ष के चुनावों में जय हो और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के बीच कांटे की टक्कर हुई थी, जिसमें जय हो ने जीत दर्ज की। उसके बाद एक साल के कार्याकाल में जय हो द्वारा महाविद्यालय में बुनियादी सुविधाओं के लिए कई आन्दोलन भी किए गए। इसी को देखते हुए इस बार निरविरोध रूप से सभी छात्र छात्रों द्वारा जय हो को पुन महाविद्यालय की कमान सौंपी।

जीत का गुलाल जीते प्रतिनिधियों के गाल


रूद्रप्रयाग महाविद्यालय में निरविरोध सजा जय हो के सिर ताज रूद्रप्रयाग महाविद्यालय में निरविरोध सजा जय हो के सिर ताज Reviewed by केदारखण्ड एक्सप्रेस on September 07, 2019 Rating: 5
Powered by Blogger.