पार्ट 3 : खबर का असर, जिलाधिकारी ने दिए पुन: जांच के आदेश लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों के खिलाफ होगी कठोर कार्रवाई

पार्ट 3 : खबर का असर, जिलाधिकारी ने दिए पुन: जांच के आदेश लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों के खिलाफ होगी कठोर कार्रवाई

-कुलदीप राणा आज़ाद /केदारखण्ड एक्सप्रेस 
रूद्रप्रयाग। जनपद के स्यूपुरी गाँव निवासी भागचन्द्र लाल द्वारा अपने गाँव में हुए विकास कार्यों की जाँच की माँग मुख्यमंत्री हेल्पलाइन में की थी, जिसके बाद मुख्यमंत्री हेल्पलाइन से एक जॉच कमेटी गठित की गई थी, लेकिन जाँच कमेठी द्वारा गाँव में भ्रष्टाचार होने के बाद भी ग्रामीणों पर अनैतिक दबाव बनाकर तथा ग्रामीणों के फर्जी नाम चढाकर समझौता नामा बनाया गया, जिसके बाद केदारखण्ड एक्सप्रेस ने "मुख्यमंत्री  हेल्पलाइन की उडा रहे अधिकारी धज्जियां" नामक शीर्षक से इस पूरे प्रकरण को प्रमुखता से प्रकाशित किया था जिसके बाद ग्रामीण खुलकर सामने आए। ग्रामीणों ने एक पत्र जिलाधिकारी को भी सौंपा था जिसमें वे जांच कमेटी की जॉच से असंतुष्ट नजर आए और पुन: जाँच की मांग की, अब पूरे प्रकरण पर जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने मुख्य विकास अधिकारी को जाँच करने के निर्देश दिए हैं और स्पष्ट लिखा है कि अगर पहले हुई जाँच में किसी भी अधिकारियों द्वारा किसी तरह की लापरवाही बरती गई है तो संबंधित अधिकारियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जायेगी, अब देखना दिलचस्प ये रहेगा कि मुख्य विकास अधिकारी की जाँच किस दिशा में जाती है।
दरअसल स्यूपुरी गाँव में वर्ष 2014 से 2019 तक हुए विकास कार्यों में प्रधान दलजीत लाल द्वारा करीब छ: ऐसे कार्य हैं जो कागजों में तो पूरे हैं लेकिन धरातल पर कही भी नहीं हुए हैं। वही स्वयं निवर्तमान प्रधान दलजीत लाल ने भी इस बात को जाँच कमेटी के सामने स्वीकार करते हुए तीन माह के भीतर उक्त कार्यों को करने के लिए प्रार्थना पत्र प्रस्तुत किया है। लेकिन सवाल यह है कि पाँच सालो में काम पूरे नहीं हुए तो अब तीन माह में कौन सी जादू की छडी घुमाई जायेगी। 

अपने ही जाँल में फँसती नजर आ रही जाँच कमेटी
स्यूपुरी गाँव में जाँच करने गई कमेटी को भ्रष्टाचार छुपाना अब महंगा पड सकता है, दरअसल जाँच कमेटी द्वारा गांव में छ कार्य अपूर्ण पाये जाने के बाद भी मुख्यमंत्री हेल्पलाइन में फर्जी समझौतानामा संलग्न कर जहां शिकायत का निस्तारण किया गया वहीं बडे भ्रष्टाचार पर भी पर्दा डालने की कोशिश की गई है। साफ जाहिर होता है कि जाँच कमेटी का भी इस  भ्रष्टाचार में बडा हाथ हो सकता है, इसलिए गाँव में हुई धांधलियों के उजागर होने के बाद भी मामले को रफा-दफा करने की कोशिश की गई, लेकिन केदारखण्ड एक्सप्रेस द्वारा लगातार इस मामले को बेबाकी से उठाया गया और अब जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने मामले की गम्भीरता को समझते हुए जाँच मुख्य विकास अधिकारी को सौप दी है। ऐसा माना जा रहा है कि इस मामले कि बडी बारीकी से जाँच चल रही है और इसमें जांच कमेटी में शामिल अधिकारियों पर भी गाज गिरनी तय है।
पार्ट 3 : खबर का असर, जिलाधिकारी ने दिए पुन: जांच के आदेश लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों के खिलाफ होगी कठोर कार्रवाई पार्ट 3 : खबर का असर, जिलाधिकारी ने दिए पुन: जांच के आदेश लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों के खिलाफ होगी कठोर कार्रवाई Reviewed by केदारखण्ड एक्सप्रेस on September 27, 2019 Rating: 5
Powered by Blogger.