Breaking News


 

Friday, 16 August 2019

प्रभावित महिला ने लगाया रेलवे अधिकारियों पर गम्भीर आरोप

प्रभावित महिला ने लगाया रेलवे अधिकारियों पर गम्भीर आरोप

पटटे की जमीन को पहले रेलवे में अधिकृत बताया और फिर इनकार कर दिया
खांकरा निवासी गुडडी देवी ने जिलाधिकारी से लगाई न्याय की गुहार, कहा असहाय समझकर किया जा रहा षड्यंत्र
-संदीप भट्टकोटी/रूद्रप्रयाग 
रूद्रप्रयाग। रेलवे जमीन अधिग्रहण और मुआवजा वितरण को ग्राम पंचायत खांकरा निवासी एक महिला ने रेलवे अधिकारियों पर भेदभाव और गुमराह करने का आरोप लगाया है। महिला ने जिलाधिकारी को दिए ज्ञापन में कहा कि पहले तो पटवारी और रेलवे अधिकारियों द्वारा उनकी पटटी की जमीन को रेल लाइन निर्माण में अधिकृत बताया गया और मुआवजा जल्द से जल्द वितरण करने का आश्वासन दिया गया और फिर अचानक दोबारा सर्वे कर रेलवे में जमीन अधिकृत होने से साफ इनकार कर दिया। जिसके बाद मामले पेचीदा हो गया और महिला ने जांच की मांग की है।
अगस्त्यमुनि विकास खण्ड की ग्राम पंचायत खांकरा निवासी गुडडी देवी ने जिलाधिकारी को दिए ज्ञापन ने बताया कि ग्राम पंचायत के अंतर्गत उनके पति के नाम से 10 नाली पटटे की जमीन है मौजूद है। जिसका पूरे दस्तावेज और नक्शा उनके पास है। कहा कि घर पर अकेली और असहाय होने के कारण पहले तो उन्हें जमीन रेलवे में अधिकृत होने की कोई जानकारी नहीं दी गई, लेकिन जब उन्हें अन्य ग्रामीणों द्वारा बताया गया कि आपकी जमीन रेलवे द्वारा अधिकृत की गई हैं, तो उन्होंने जिलाधिकारी के सामने अपनी समस्या रखी। जिसके बाद जिलाधिकारी के निर्देश पर पटवारी खांकरा और रेलवे अधिकारियों द्वारा मौके पर जाकर जमीन की पूरी सर्वे की गई और सभी दस्तावेज भी सही पाए गए। अधिकारियों द्वारा कहा गया कि आपकी जमीन रेलवे मे अधिकृत है और उपरोक्त जमीन का आपको जल्द मुआवजा मिलेगी। यहां तक रेलवे अधिकारियों द्वारा मुआवजे की फाइल भी तैयार होने की बता कही गई। 
पीडित महिला ने आरोप लगाया कि अचानक दो दिन बाद फिर पटवारी खांकरा और रेलवे अधिकारी मौके पर आए और उन्होंने दोबारा सर्वे की। जिसके बाद बताया गया कि उनकी जमीन रेलवे में अधिकृत नहीं हो रही है। यहां तक उस जमीन को उनकी ना होने और नए नक्शे में दूसरी जमीन होने की बात कही गई। जबकि दो दिन पहले रेलवे अधिकारियों द्वारा जमीन को रेवले में अधिकृत बताया गया और सरकारी नक्शे में जमीन को सही पाया गया था। पीडित महिला गुडडी देवी ने कहा कि अचानक इस तरह गलत रिपोट तेयार कर उन्हें गुमराह किया गया जा रहा हे। कहा कि उनका अनपढ ओर असहाय होने का फायदा उठाया जा रहा ह ओर इससे पहले भी उनकी रेलवे में जो अन्य जमीने अधिकृत हुई हे उनका भी पूरा पेसा उन्हें नहीं मिला ह। उन्होंने कहा कि अचानक दस्तावेजों को बदलना और इस तरह महिला को गुमराह करना न्यायोचित नहीं है, जबकि ग्रामीणों द्वारा भी उनकी जमीन रेेलवे में अधिकृत होने की पहले से ही पुष्टि की जा रही है और उनकी पटटे जमीन के अगल-बलग की जमीन भी रेलवे में अधिकृत है फिर उनके साथ अन्याय क्यों किया जा रहा है। उन्होंने जिलाधिकारी से मामले की जांच कर न्याय दिलाने की मांग की है।
-----------------------------------------------------------------------
[केदारखण्ड एक्सप्रेस]

https://www.kedarkhandexpress.in/2019/08/karant-lagne-se-3-bhaish-ki-maut.html?m=1
करंट लगने से तीन भैंसों की दर्दनाक मौत, गरीब की आजीविका का सहारा छिन्ना

1 comment:

VINOD BUTOLA said...

Pure mamle ki janch honi chahiye,ki log santust hai ya nhi,dusre Mai nh road Mai bhi janch honi chahiye ki kis base par kheto Ko nagarpalika aur gramin Mai Rakha gya,iski janch honi chahiye