जान को जोखिम में डालकर उफनते गदेरे को पार कर रहे नन्हे मुन्हे बच्चे

जान को जोखिम में डालकर उफनते गदेरे को पार कर रहे नन्हे मुन्हे बच्चे 
उफनती बरसाती गधे रे को कुछ इस तरह से पार कर रहे स्कूली बच्चे-
-रायसिंह बिष्ट/सहयोगी 
जखोली। रुद्रप्रयाग जनपद में लगातार हो रही बारिश के कारण जहां अलकनंदा और मंदाकिनी नदियों का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर बह रहा है वही बरसाती गधे रे भी उफान पर हैं  दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्रों में बरसाती गदेरे ग्रामीणों के लिए मुसीबत का सबब बने हुए हैं जखोली विकासखंड के मायाली-बधाणीताल मोटर मार्ग पर करीबन 6 जगहों पर बरसाते गदेरे में जल स्तर बढ़ने के कारण जहां ग्रामीणों को भारी दिक्कतें हो रही हैं वहीं स्कूली बच्चें भी अपनी जान को जोखिम में डालकर कर स्कूल जाने के लिए मजबूर हैं।कोट बांगर समेत दर्जन भर गांवो के बच्चे इसी तरह हर रोज बरसाती गदेरे को पार करते हैं। वीडियो में आप साफ तौर पर देख सकते हैं कैसे उफनते गदेरे को पार कर रहे हैं बच्चे। उधर रूद्रप्रयाग  गौरीकुंड राष्ट्रीय राजमार्ग बांसवाड़ा के पास बंद चल रहा है बांसवाड़ा में भूस्खलन जोन नासूर बन गया है यहां पर हर समय पहाड़ी से पत्थरों की बरसात हो रही है ऐसे में यातायात के लिए मार्ग को लिंक मार्गों के जरिए डायवर्ट किया हुआ है इससे जहां लोगों का ज्यादा समय खराब हो रहा है वही अधिक धन भी खर्च करना पड़ रहा है बताया जा रहा है कि केदारनाथ गौरीकुंड पैदल मार्ग भी लैंडस्लाइड के कारण कहीं जगहों पर बंद चल रहा है जिसके कारण केदारनाथ यात्रा पर रोक लगाई गई है केदारनाथ जाने वाले यात्रियों को सुरक्षित पढ़ाओ पर रोका गया है

जान को जोखिम में डालकर उफनते गदेरे को पार कर रहे नन्हे मुन्हे बच्चे जान को जोखिम में डालकर उफनते गदेरे को पार कर रहे नन्हे मुन्हे बच्चे Reviewed by केदारखण्ड एक्सप्रेस on August 15, 2019 Rating: 5
Powered by Blogger.