छह गांवों में गहराया पानी का संकट

लमेरी-भुनका पेयजल योजना पर पानी की आपूर्ति ठप

मीलों दूर पेयजल स्रोत से पानी की आपूर्ति कर रहे ग्रामीण

छह गांवों में गहराया पानी का संकट
-मोहित डिमरी/रूद्रप्रयाग 
रुद्रप्रयाग। पिछले एक हफ्ते से लमेरी-भुनका पेयजल योजना पर जलापूर्ति ठप होने से ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल के लिए हाहाकार मच गया है। स्थिति यह है कि योजना से लाभान्वित करीब छह गांवों के लोगों को पानी के लिए मीलों दूर पेयजल स्रोत जाना पड़ रहा है। इस सम्बंध में कई बार शिकायत के बावजूद अभी तक पानी की सप्लाई नहीं हुई। 

विकासखंड अगस्त्यमुनि अंतर्गत ग्वाड़, पोखरसारी, बौठा, किमोठा, लमेरी आदि गांवों में लमेरी-भुनका पेयजल योजना से पानी की आपूर्ति होती है। करीब नौ दिन से योजना पर पानी नहीं चल रहा है। इससे ग्रामीणों के सामने पानी का गंभीर संकट गहरा गया है। ग्रामीण गांव से दूर स्रोत से पानी लाकर प्यास बुझा रहे हैं। ग्वाड़ और किमोठा के ग्रामीणों को करीब डेढ़ किमी पैदल चलकर पानी लाना पड़ रहा है। 

पूर्व ज्येष्ठ प्रमुख मोहन सिंह सिन्धवाल का कहना है कि गांवों में पानी के संकट के चलते गंभीर स्थिति पैदा हो गई है। ग्रामीण बूंद-बूंद पानी के लिए तरस गए हैं। सम्बंधित विभागीय अधिकारी शिकायत के बावजूद पानी की व्यवस्था नहीं कर रहे हैं। वहीं जन अधिकार मंच ने जिलाधिकारी के सम्मुख ग्रामीणों की इस समस्या को रखा। इसके साथ ही जल संस्थान के अधिकारियों से फोन पर वार्ता की। मंच के अध्यक्ष मोहित डिमरी ने कहा कि ग्रामीणों की समस्या को देखते हुए विभागीय अधिकारियों को त्वरित कार्यवाही करनी चाहिए। ग्रामीण पानी के लिए परेशान हैं। 

इधर, जल संस्थान के अधिशासी अभियंता संजय सिंह ने बताया कि बारिश के चलते योजना क्षतिग्रस्त हो गई थी। योजना को दुरुस्त किया जा रहा है। एकाध दिन में पानी की आपूर्ति हो जाएगी।
छह गांवों में गहराया पानी का संकट छह गांवों में गहराया पानी का संकट Reviewed by केदारखण्ड एक्सप्रेस on August 05, 2019 Rating: 5
Powered by Blogger.