कहीं पानी आफत बरसा रहा तो कहीं नलो से गायब पानी, बूंद बूंद के लिए मौहताज ग्रामीण

कहीं पानी आफत बरसा रहा तो कहीं नलो से गायब पानी, बूंद बूंद के लिए मौहताज ग्रामीण 

-बलवंत रावत/केदारखण्ड एक्सप्रेस 
नरेंद्र नगर। इस बरसात में भी बूंद-बूंद पानी को तरस रहे हिंडोलाखाल और दुआधार के  लोगों को जल संस्थान के अधिकारियों का घेराव करने को मजबूर होना पड़ रहा है,, जल संस्थान के अधिकारियों का घेराव करने नरेंद्र नगर पहुंचे  पेयजल उपभोक्ताओं को जल संस्थान में सक्षम अधिकारियों  के न होने से गुस्साए पेयजल उपभोक्ताओं ने तहसील की  ओर रुख किया।

तहसील में जा धमकते ही ग्रामीणों दोनों कस्बों के पेयजल उपभोक्ताओं ने तहसीलदार दयाल सिंह भंडारी से मुलाकात कर क्षेत्र में महीनों से उत्पन्न पेयजल संकट के बारे में अवगत कराते हुए कहा कि ऑल वेदर रोड निर्माण के कारण विगत मार्च माह में पेयजल पाइप लाइन क्षतिग्रस्त हो गई थी, दोनों कस्बों के लोगों की  पेयजल आपूर्ति की मांग को देखते हुए  प्रशासन के निर्देश पर जल संस्थान ने तब लगभग डेढ़ माह तक  पानी का टैंकर लगाया किंतु जून माह में टैंकर द्वारा पेयजल आपूर्ति अकारण बंद कर दी गई।
 उपभोक्ताओं ने तहसीलदार भंडारी से वार्ता के दौरान ज्ञापन सौंपते हुए बताया कि इस बरसात में भी दोनों कस्बों के लोगों को बूंद बूंद पानी के लिए तरसना पड़ रहा है और बुजुर्ग बेहद परेशान हैं।
 तहसीलदार दयाल सिंह भंडारी ने दूरभाष पर जल संस्थान के अधिकारियों  को निर्देश दिए कि तत्काल दोनों कस्बों में टैंकर द्वारा पेयजल आपूर्ति कराई जाए।
 और 3 दिन के भीतर पेयजल पाइप लाइन की मरम्मत कर जलापूर्ति की जाय।
  उपभोक्ताओं ने कहा कि यदि 3 दिन के अंदर नियमित जलापूर्ति न की गई तो दोनों कस्बों के पेयजल उपभोक्ता आंदोलन के लिए बाध्य होंगे।
ज्ञापन  सौंपने वालों में पूर्व जिला पंचायत सदस्य कुंका सिलसवाल, नरेंद्र सिंह पुंडीर, वीरेंद्र सिंह पुंडीर, शूरवीर सिंह, धर्म सिंह, राजेंद्र सिंह, मोहन सिंह, विजय सिंह व बुद्धि सिंह आदि थे।
कहीं पानी आफत बरसा रहा तो कहीं नलो से गायब पानी, बूंद बूंद के लिए मौहताज ग्रामीण कहीं पानी आफत बरसा रहा तो कहीं नलो से गायब पानी, बूंद बूंद के लिए मौहताज ग्रामीण Reviewed by केदारखण्ड एक्सप्रेस on August 23, 2019 Rating: 5
Powered by Blogger.