पत्थरीले रेगिस्तान में खड़ा कर दिया मिश्रित जंगल

पत्थरीले रेगिस्तान में खड़ा कर दिया मिश्रित जंगल

-रघुवीर नेगी/केदारखण्ड एक्सप्रेस
जोशीमठ(उर्गम घाटी) कल्पेश्वर कल्प क्षेत्र में महिला मंगल दल ने एक अनोखी मिशाल कायम की है। पिलखी क्षेत्र का कोलू तोक कभी सूखा रेगीस्तान की तरह नजर आता था। वीहड़ पत्थरीली जमीन जहां कभी कोई हरियाली की कल्पना भी नहीं कर सकता था लेकिन, यहां कि महिला मंगल दल ने वर्ष 2008 में  इस क्षेत्र के करीब 5 हैक्टेसी भूभाग पर 300 से अधिक बांज, देवदार, पांगर, क्वीराल, मणिपुर बांज जैसे चारा-पत्ती वाले पौधो का रोपण किया। पेडों की सुरक्षा के लिए मनरेगा के तहत इस पूरे क्षेत्र का वनीकरण किया गयाा। समय समय पर महिला मंगल दल इन नन्हें पौधों की देख‘-भाल करती रही तो इन पौधों के साथ ही इस बेजान भूमि में जान
आने लगी। पौधों में नई-नई कोपलियां फूटनी लगी तो इन महिलाओं की उम्मीदों में भी जान आने लगी और फिर से उन्होंने  इस क्षेत्र में और अधिक पौधों का रोपण किया गया। साथ ही पालतू जानवरों के लिए नेपियर घास समेत कई प्रजातियों की घास भी यहां लगाई गई। बरसात के समय यहां से घास की बिक्री भी खूब होती है। आज स्थिति ये है कि यह पूरा क्षेत्र एक हरे-भरे मिश्रित जंगल का स्वरूप धारण कर चुका है जिसे देख मन प्रसन्न हो जाता है। इससे भी बड़ी बात यह है इस जंगल की सफलता को देख अन्य जगहों पर भी कई जंगल तैयार किए जा चुके हैं। महिलाओं की इस मेहनत से न केवल उन्हें गांव के नजदीक ही चारापत्ती प्राप्त हो रही है बल्कि पर्यावरण संरक्षण में भी महिलाओं की यह भूमिका अहम योगदान निभा रही है। 


पत्थरीले रेगिस्तान में खड़ा कर दिया मिश्रित जंगल पत्थरीले रेगिस्तान में खड़ा कर दिया मिश्रित जंगल Reviewed by केदारखण्ड एक्सप्रेस on August 26, 2019 Rating: 5
Powered by Blogger.