जगतोली मेले को दिया जायेगा भव्य रूप

जगतोली मेले को दिया जायेगा भव्य रूप
मेले के भव्य आयोजन को लेकर चर्चा करते लोग 

अगस्त्यमुनि। हमारे संवाददाता
शहीद सुनील दत्त काण्डपाल राजकीय इण्टर कालेज काण्डई में आयोजित बैठक में उपस्थित लोगों ने जागतोली मेले के भव्य स्वरूप दिये जाने पर चर्चा की। बैठक की अध्यक्षता करते हुये निर्वतमान जिला पंचायत उपाध्यक्ष लखपत भण्डारी ने कहा कि तीन दिवसीय इस मेले के सफल आयोजन के लिये समस्त दशज्यूला को साथ लेकर आगे बढना होगा। उन्होने विश्वास दिलाया कि इस मेले को एक दिन से बढाकर तीन दिन की किये जाने के लिये जो भी आवश्यकतायें होगी वे इसके लिये पूर्ण प्रयास करेंगे। 
बैठक में उपस्थित निधि किशोर काण्डपाल ने प्रस्ताव रखा कि मेले को बेहतर स्वरूप देने के लिये स्थानीय उत्पादों सहित विभिन्न विभागों की प्रदर्शनी लगायी जायेगी। सतेन्द्र राणा ने कहा कि इस वर्ष महिला मंगल दलों के माध्यम से भजन संध्या का आयोजन किया जाना चाहिये। मनमेन्द्र नेगी ने प्रस्ताव रखा कि इस मेले को स्वरूप को अब धार्मिक के साथ साथ औद्योगिक महोत्सव के रूप में मनाया जाय। दाताराम काण्डपाल ने मेले समिति की यथाशीध्र रजिस्ट्रेशन कराये जाने का प्रस्ताव रखा। इस दौरान चरण सिंह, दिगम्बर सिंह नेगी, रवि जग्गी, रविन्द्र भण्डारी, कालिका काण्डपाल, प्रभाकर काण्डपाल, रायसिंह रावत, विजयपाल सिंह आदि ने अपनी बात रखी।  
राजेन्द्र काण्डपाल द्वारा संचालित इस बैठक में सभी वक्ताओं ने मेले को भव्य स्वरूप दिये जाने के सुझाव दियेे। तथा दशज्यूला के सभी गावों से दो दो प्रतिनिधियों को चुना गया। तथा इस सन्दर्भ में अग्रीम बैठक के लिये रविवार 4 अगस्त के दिन द्वारीधार को चुना गया। तथा निर्णय लिया गया कि उसी दिन कार्यकारणी का गठन किया जायेगा।  

कब होता है जागतोली मेला-
दशज्यूला क्षेत्र की आराध्य मां नन्दा देवी की पूजा प्रतिष्ठा के साथ यज्ञतोली (वर्तमान नाम जागतोली) में इस मेले का आयोजन 1958 में स्वतन्त्रता सेनानी स्वर्गीय नन्दासिंह खत्री के नेतृत्व में शुरू किया गया था। तब से लेकर अब तक नन्दा देवी मन्दिर (आगर) में विधिवत पूजा प्रतिष्ठा के बाद दशज्यूला क्षेत्र के केन्द्र स्थल, शिक्षण व खेलकूल गतिविधियों के केन्द्र, पाताल गंगा के उदगम स्थल व प्रकृति के अद्वितीय छटा के लिये प्रसिद्ध जागतोली के विशाल प्रागण में यह आयोजन किया जाता है। पूर्व से यह मेला नन्दाअष्टमी को आयोजित किया जाता रहा है। मां नन्दा की आस्था के साथ मुख्य रूप से धियाणियों के मिलन के अवसर के रूप में प्रतिवर्ष यह मेला क्षेत्रिय जनता द्वारा स्वस्फूर्त लगाया जाता है।
जगतोली मेले को दिया जायेगा भव्य रूप जगतोली मेले को दिया जायेगा भव्य रूप Reviewed by केदारखण्ड एक्सप्रेस on July 21, 2019 Rating: 5
Powered by Blogger.