पोखरी ब्लाक मुख्यालय के अतिक्रमण पर मौन क्यों हैं जिम्मेदार, 300 से अधिक अतिक्रमणकारियों की सूची तहसील प्रशासन के पास लम्बित



पोखरी ब्लाक मुख्यालय के अतिक्रमण पर मौन क्यों हैं  जिम्मेदार, 300 से अधिक अतिक्रमणकारियों की सूची तहसील प्रशासन के पास लम्बित




सन्दीप बर्त्वाल/केदारखण्ड एक्सप्रेस 

पोखरी। पोखरी ब्लाक मुख्यालय में लम्बे समय से तहसील प्रशासन की नाक के नीचे सरकारी भूमि पर लगातर अतिक्रमण जारी है, लेकिन कार्यवाही के नाम पर जिम्मेदार मौन धारण किये हुए हैं। एसे में अतिक्रमणकारियों के हौसले बुलंद हैं। मसलन विकास कार्यों को धरातल पर उतरने में भारी दिक्कतो का समान करना पड़ रहा है। 


आपको बताते चले पोखरी मुख्यालय में लोक निर्माण विभाग की सड़क और उसके अगल बगल 300 से अधिक लोगों ने सरकारी भूमि पर आतिक्रमण कर रखा है। लोनिवि ने अतिक्रमण हटाने के लिये सभी अतिक्रमणकारियों की सूची तहसील प्रशासन  को पिछले वर्ष जनवरी 2019 में  सौप दी है, लेकिन तहसील प्रशासन एक वर्ष गुजर जाने के बाद भी क्यों कोई कार्यवाही नही कर रहा है, यह तहसील प्रशासन की कार्यशैली पर गम्भीर प्रश्न खडे करती है, बताया जा रहा है कि अतिक्रमणकारियों में कुछ राजनीतिक रसूकदार लोग हैं जिनपर प्रशासन हाथ डालने से कतरा रहा है।  


लोक निर्माण विभाग नही कर पा रहा  विकास कार्य 


पोखरी बाजार और उसके नजदीकी इलाकों में अतिक्रमणकारियों द्वारा लगातार अतिक्रमण किए जाने से लोक निर्माण विभाग के विकास कार्य ठप पड़े हैं लोक निर्माण विभाग के सहायक अभियंता कृष्ण कुमार ने बताया कि सड़क में  लगातार अतिक्रमण होने से वे पेंटिंग का कार्य कर पा रहे हैं, क्योंकि जहां पर वह पेंटिंग कर रहे हैं वहां अतिक्रमणकारियों द्वारा पानी गिराया जा रहा है जिससे सड़क जल्दी उखड़ जा रही है इसके अलावा अतिक्रमण कारियों द्वारा सड़क के स्कपर पर बंद किए हुए हैं जिससे पूरा पानी सड़क पर बह रहा है और उससे पूरी सड़क उखड़ कर गडडो   के रूप में तब्दील हो जा रही है, जबकि बरसाात के सड़कें तालाब का रूप ले लेती हैं । हालांकि लोक निर्माण विभाग द्वारा तहसील प्रशासन को 300 से अधिक अतिक्रमणकारियों की सूची पिछले वर्ष सौंपी गई थी लेकिन अब तक उन पर कोई कार्यवाही नहीं हुई है जिस कारण सड़क पर डामरीकरण का कार्य नहीं हो पा रहा है जिससे सड़कों की खस्ताहाल स्थिति बनी हुई है। जो हर वक्तत दुर्घटनाओंको न्योता दे रही है।


अतिक्रमण हटाने के लिये एस डीएम ने की कमेठी गठित, पर पुराने अतिक्रमण पर नही होगी कार्यवाही


पोखरी में नवनियुक्त उप जिलाधिकारी सुधीर कुमार ने कहा की अभी उन्हें अतिक्रमण को लेकर अधिक जानकारी नही है लेकिन पहले चरण में सड़को को बाधित करने वाले अतिक्रमण पर कारवाही की जायेगी, इसके लिए संबंधित विभागों की एक कमेटी बनाई गई है जो जल्द सर्वे कर  अतिक्रमण को चिन्हीत करेगी।हालाकि उन्होने यह भी कहा की वे पुराने अतिक्रमण पर फिलहाल कार्यवाही नहीं करेंगे।



एसे तो बढ़ता रहेगा अतिक्रमणकारियों का हौसला


पोखरी क्षेत्र में लंबे समय से सरकारी भूमि पर अतिक्रमणकारी  सेध लगा रहे हैं और यह सब कुछ प्रशासन की आंखों के सामने हो रहा है लेकिन जिस वक्त अतिक्रमण की शुरुआत होती है उस वक्त क्यों कोई कार्यवाही नहीं की जाती यह भी अपने आप में एक बड़ा सवाल है? लेकिन जिस तरह से अतिक्रमणकारियों को पोखरी में खुली छूट मिली हुई है उससे तो यही लगता है की आने वाले दिनों में और भी अतिक्रमण होता रहेगा और कार्यवाही के नाम पर जिम्मेदार आंख मूंदे रहेंगे। बहरहाल तहसील प्रशासन की सुस्ती से अतिक्रमणकारियों के हौसले बुलंद हैं । देखना होगा आगे क्या कार्यवाही की जाती है।

पोखरी ब्लाक मुख्यालय के अतिक्रमण पर मौन क्यों हैं जिम्मेदार, 300 से अधिक अतिक्रमणकारियों की सूची तहसील प्रशासन के पास लम्बित पोखरी ब्लाक मुख्यालय के अतिक्रमण पर मौन क्यों हैं  जिम्मेदार, 300 से अधिक अतिक्रमणकारियों की सूची तहसील प्रशासन के पास लम्बित Reviewed by केदारखण्ड एक्सप्रेस on September 18, 2020 Rating: 5

केदारनाथ देवस्थानम बोर्ड हुआ सख्त, तीर्थ पुरोहितों के धरना प्रदर्शन पर अब होगा शक्ती का प्रयोग



केदारनाथ देवस्थानम बोर्ड  हुआ सख्त, तीर्थ पुरोहितों के धरना प्रदर्शन पर अब होगा शक्ती का प्रयोग


डेस्क : केदारखण्ड एक्सप्रेस न्यूज़ 

व4रूद्रप्रयाग। उत्तराखण्ड शासन की अधिसूचना संख्या-17/XXXVI(3)/2020/83(1)2019 देहरादून दिनाँक 15 जनवरी, 2020 के द्वारा उत्तराखण्ड चार धाम देवस्थानम प्रबन्धन विधेयक 2019 प्रवृत्त होने के उपरान्त उत्तराखण्ड स्थित चार धामों के कुशल प्रबन्धन/व्यवस्था का उत्तरदायित्व उत्तराखण्ड चार धाम देवस्थानम प्रबन्धन बोर्ड में निहित है। धामों में श्रद्धालुओं/तीर्थ यात्रियों के आवागमन हेतु जनहित में बोर्ड द्वारा अपने पत्रांक संख्याः- 257/का0आ0/2020-21 दिनांक 16.09.2020 द्वारा देवस्थानम प्रबंधन अधिनियम की धारा 15(5)(6) में प्रदत्त शक्तियांे का प्रयोग करते हुये श्री केदारनाथ देवस्थानम के 200 मीटर की परिधि एवं वैली ब्रिज से मन्दिर तक के मुख्य पहुंच मार्ग में किसी भी प्रकार का धरना प्रदर्शन निषिद्ध करते हुये अधोेहस्ताक्षरी एवं पुलिस अधीक्षक रूद्रप्रयाग हेतु उक्त आदेश का अनुपालन कराये जाने हेतु दिशा-निर्देश पारित किये गये हैं।

 

1- तीर्थ पुरोहितों से दिनाँक 12-09-2020 को हुई वार्ता के अनुसार उनके द्वारा मुख्यतः दो मांगे जिला प्रशासन के समक्ष रखी गयी। 

1 देवस्थानम् बोर्ड को लागू न किया जाना।

2 वर्ष 2013 की दैवी आपदा में वाश आउट हुए भवनों व श्री केदारनाथ धाम में सौन्दर्यीकरण के तहत तीर्थ पुरोहितों की स्वामित्व वाली भूमि जो कि अधिग्रहण की गयी है, के सम्बन्ध में जिला प्रशासन द्वारा कुल 127 तीर्थ पुरोहितों के साथ भूमिधरी अधिकार व भवन निर्मित किये जाने हेतु अनुबन्ध गठित किये गये हैं, जब तक जिला प्रशासन द्वारा पूर्व में हुई कुल 127 अनुबन्ध के अनुसार सभी तीर्थ पुरोहितों को उनका भूमिधरी अधिकार व भवन निर्मित नहीं किये जाते हैं तब तक मास्टर प्लान को लागू न किया जाय।

2- प्रथम मांग के सन्दर्भ में रिट पिटीशन संख्या-700 (MS) 2020 श्री 05 मन्दिर समिति गंगोत्री धाम अन्य बनाम उत्तराखण्ड राज्य व अन्य एवं रिट पिटीशन संख्या नैनीताल द्वारा याचिकाकर्ताओं की याचिका को दिनाँक 21-07-2020 को निरस्त कर दी गयी है। 

  द्वितीय मांग के संबंध मंे मास्टर प्लान के विषय में  तीर्थ पुरोहितों को अवगत कराया गया है कि पूर्व में हुए 127 अनुबन्ध के सापेक्ष 41 भवनों का निर्माण कर तीर्थ पुरोहितों को हस्तगत कर दिये गये हैं तथा शेष भवनों का निर्माण कार्य गतिमान है साथ ही केदारनाथ मास्टर प्लान के तहत अधिग्रहण की जाने वाली भूमि के सम्बन्ध में वार्ता के दौरान तीर्थ पुरोहितों के प्रतिनिधि मण्डल को अवगत कराया गया है कि अधिकाशतः निर्माण कार्य शासकीय भूमि पर किये जाने प्रस्तावित हैं।

  उक्त दोनों मांगों के अतिरिक्त तीर्थपुरोहितों द्वारा प्रशासन के समक्ष समय-समय पर रखी गयी मांगों व सुझावांे के संबंध मंे प्रशासन द्वारा निम्नलिखित निर्णय लिये गये हैंः-

1- श्री केदारनाथ धाम में तीर्थपुरोहितों की आवश्यकताओं के दृष्टिगत उन्हें विश्वास में रखते हुए भोग मण्डी, प्रवचन हाॅल, पुजारी आवास का निर्माण तथा सुदृढ़ीकरण व ईशानेश्वर महादेव मन्दिर के निर्माण को मास्टर प्लान के अनुसार किया जायेगा।

2- तीर्थ पुरोहितों की निजी भूमि को लेकर  पूर्व में किये गये सार्वजनिक कार्यों के समय किये गये अनुबन्धों का पालन किया जायेगा। कुल 127 अनुबन्धों में से 41 अनुबन्धों के अनुसार मकान निर्माण कर दिये जा चुके हैं। अवशेष अनुबन्धों के अनुपालन हेतु भवनों का निर्माण का कार्य गतिमान है। उसे यथा शीघ्र पूर्ण कर प्रभावितों को नियमानुसार आवंटन किया जायेगा।

3- भूमिधरी अधिकार विषयक- श्री केदारनाथ धाम में शासकीय निर्माण कार्यों हेतु पूर्व में जिन तीर्थ पुरोहितों की भूमि अधिग्रहण की गयी है, उन्हें शासनादेश व अनुबन्ध के अनुसार उनके विधिक स्वामित्व की भूमि के बराबर भूमि पर भूमिधरी अधिकार दिये जाने हेतु राजस्व अभिलखों के अनुसार प्रभावितों की विधिक स्वामित्व की भूमि का सर्वें तथा बदले में दी जाने वाली शासकीय भूमि  का सर्वें पूर्ण कर सम्पूर्ण अभिलेखों सहित रिपोर्ट शासन स्तर पर प्रेषित की जा चुकी है। उक्त विषय में शासन स्तर पर कार्यवाही गतिमान है, शासनादेश प्राप्त होते ही भूमि आवंटन प्रक्रिया प्रारम्भ कर दी जायेगी।

4- भविष्य में मास्टर प्लान के अनुसार होने वाले निर्माण कार्यों में तीर्थ पुरोहितों की राय लेकर तथा उनके सुझावों को सम्मिलित करते हुए प्रशासन द्वारा यथा सम्भव अन्तिम निर्णय लिया जायेगा।

5- किसी भी तीर्थ पुरोहित की विधिक स्वामित्व की भूमि को उनकी सहमति के बिना नहीं लिया जायेगा तथा शासनादेश के अनुरूप उचित क्षतिपूर्ति के पश्चात् ही भू स्वामी की सहमति से भविष्य में आवश्यकता होने पर निजी भूमि को लेने पर कार्यवाही होगी।

6- आगामी यात्राकाल में प्रशासन के स्तर से आवंटित की जाने वाली कुछ दुकानें प्रभावितों व स्थानीय बेरोजगारों हेतु नियमानुसार न्यूनतम धनराशि पर उपलब्ध कराने हेतु  आरक्षित रखे जाने पर विचार किया जायेगा।

7- श्री केदारनाथ यात्रा मार्ग तथा  केदारपुरी में यात्रियों हेतु आवासीय व अन्य व्यवस्थाओं में स्थानीय लोगों को यथा सम्भव प्राथमिकता प्रदान की जायेगी।

8- श्री केदारनाथ धाम में पूर्व में शासकीय भूमि पर निर्मित कर प्रभावितों को आवंटित किये गये आवासों में कुछ भवनों में गुणवत्ता संबंधी शिकायतें प्राप्त हुयी हैं। उक्त पर भवनों का निर्माण 2016 में एन0आई0एम0 के माध्यम से शुरू किया गया था तथा 2018 में तीर्थ पुरोहितों को उपलब्ध कराया गया था उक्त शिकायतों का संज्ञान लेते हुए एक जाँच समिति का गठन कर दिया गया है तथा निर्माणदायी संस्था से उक्त भवनों के मूल डिजायन/ड्रायिंग व डी0पी0आर0 प्राप्त की जा रही है। तकनीकी परीक्षण के पश्चात् भवनों की सुरक्षा हेतु मरम्मत व अन्य उपाय करने पर समिति की रिपोर्ट प्राप्त होने पर मानकांे के अनुसार मरम्मत की अनुमति प्रदान की जायेगी।

9- भविष्य में श्री केदारनाथ में यात्रियों की संख्या बढ़ने की सम्भावना के दृष्टिगत स्वास्थ्य टीमों की संख्या दोगुना करने पर विचार किया जा रहा है। अग्रिम सप्ताह तक केदारनाथ में कोविड टेस्ट  की सुविधा उपलब्ध करा दी जायेगी। वर्तमान में सोनप्रयाग, सिरोबगड़ एवं समस्त सी0एच0सी0 व जिला चिकित्सालय में उक्त सुविधा उपलब्ध है।

10- तीर्थ पुरोहितों की समस्त मांगे जो प्रशासन स्तर की हैं पूर्ण कर दी गयी हैं। तथा तीर्थ पुरोहितों के सहयोग से समस्त चिन्ताओं के निराकरण हेतु सकारात्मक प्रयास किये जा रहे हैं। जिलाधिकारी स्तर पर तीन बार तीर्थ पुरोहितों के प्रतिनिधि मण्डल से वार्ता की जा चुकी है, इसके बाद भी यदि तीर्थ पुरोहित अपना आन्दोलन जारी रखना चाहते हैं तो शासन स्तर की मांगों के लिए एक प्रतिनिधि मण्डल शासन स्तर पर वार्ता करने हेतु स्वतंत्र है।

  तीर्थ पुरोहितों के द्वारा विरोध प्रदर्शन उनके लोकतांन्त्रिक अधिकार की श्रेणी में आता है तथा शांतिपूर्ण प्रदर्शन व कोविड 19 हेतु जारी दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए सीमित संख्या में धरना प्रदर्शन करने पर प्रशासन को आपत्ति नहीं है, परन्तु मुख्य कार्यकारी अधिकारी उत्तराखण्ड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड द्वारा पारित आदेश के क्रम में मन्दिर परिसर में श्री केदारनाथ देवस्थानम के 200 मीटर की परिधि व वैली ब्रिज से मन्दिर के मुूख्य पहुंच मार्ग में किसी भी प्रकार के धरना प्रदर्शन को निषिद्ध किया जाता है। बोर्ड के आदेश के अनुपालन में अपर जिलाधिकारी तथा पुलिस अधीक्षक द्वारा नियुक्त सक्षम पुलिस अधिकारी की टीम तीर्थ पुरोहितों से वार्ता करने हेतु भेजी गयी है। उक्त टीम उन्हें समझाने तथा आन्दोलन स्थगित करने हेतु अनुरोध करेगी। अस्वीकार होने पर उक्त टीम देवस्थानम् बार्ड के आदेश का अनुपालन सुनिश्चित करायेगी। किसी भी प्रकार की शांति-व्यवस्था भंग होने की स्थिति में दोषी के विरूद्ध नियमानुसार दण्डात्मक कार्यवाही अमल में लायी जायेगी।

केदारनाथ देवस्थानम बोर्ड हुआ सख्त, तीर्थ पुरोहितों के धरना प्रदर्शन पर अब होगा शक्ती का प्रयोग केदारनाथ देवस्थानम बोर्ड  हुआ सख्त, तीर्थ पुरोहितों के धरना प्रदर्शन पर अब होगा शक्ती का प्रयोग Reviewed by केदारखण्ड एक्सप्रेस on September 17, 2020 Rating: 5

नाबालिग लड़की को बहला-फुसलाकर ले जाने व्यक्ति वाला स्ख्स गिरफ्तार



नाबालिग लड़की को बहला-फुसलाकर ले जाने वाला सख्स  गिरफ्तार 

-भूपेंद्र भण्डारी/केदारखण्ड एक्सप्रेस 

रूद्रप्रयाग। विकासखंड के भीलवाड़ा क्षेत्र की एक नाबालिग लड़की को भगाने वाले सख्स को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी की गिरफ्तारी उसके घर से की गई है। आरोपी को न्यायालय के समक्ष पेश कर 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।


मिली जानकारी के अनुसार नाबालिक लड़की की मां ने कोतवाली रुद्रप्रयाग में आकर एक प्रार्थना पत्र अपनी पुत्री के बिना बताए कहीं चले जाने के संबंध में दिया गया था। प्रार्थना पत्र पर कोतवाली रुद्रप्रयाग में गुमशुदगी क्रमांक मामला पंजीकृत कर विवेचना उप निरीक्षक विजय प्रताप राही के सुपुर्द की गई। इसके बाद नाबालिक लड़की की ढूंढ खोज की गई। जिसके बाद उक्त लड्की को जंगलचट्टी (गैरसैण) चमोली से राहुल कुमार पुत्र गोविंद राम निवासी ग्राम मालसी, जंगलचट्टी,  थाना गैरसैण, जनपद चमोली के साथ बरामद किया गया। 


गुमशुदा की बरामदगी व अभियुक्त की गिरफ्तारी के आधार पर आरोपी के खिलाफ मुकदमा  धारा 366/366A/376 भा0द0वि0 व 3/4 pocso act की बढ़ोतरी की गई। जिला चिकित्सालय रुद्रप्रयाग में आवश्यक चिकित्सा परीक्षण करने के उपरांत अभियुक्त उपरोक्त को दिनांक  को माननीय न्यायालय विशेष जज पोक्सो रुद्रप्रयाग के समक्ष पेश किया गया। जिसको माननीय न्यायालय द्वारा 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया तथा गुमशुदा को न्यायालय के समक्ष बयान अंकित करवाने के उपरांत उसके परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया है। बताया जा रहा है तुम नाबालिक लड़की मैं ने उक्त युवक से शादी कर दी थी


बरामदगी व गिरफ्तारी पुलिस टीम

(1) उप निरीक्षक विजय प्रताप राही

(2)कानि.62 धर्मवीर

(3)कानि.158 श्वेता

नाबालिग लड़की को बहला-फुसलाकर ले जाने व्यक्ति वाला स्ख्स गिरफ्तार नाबालिग लड़की को बहला-फुसलाकर ले जाने व्यक्ति वाला स्ख्स गिरफ्तार Reviewed by केदारखण्ड एक्सप्रेस on September 11, 2020 Rating: 5

विद्युत विभाग के लाइनमैन पर लगा करंट, हायर सेंटर रेफर, लपरवाही से हुआ हादसा

 


विद्युत विभाग के लाइनमैन पर लगा करंट, हायर सेंटर रेफर, लपरवाही से हुआ हादसा


नवीन चंदोला/ केदारखंड एक्सप्रेस

थराली। यहां विद्युत विभाग का एक लाइनमैन बिजली ठीक करने के दौरान करंट लगने से बुरी तरह झुलस गया जिसके बाद उन्हें नजदीकी चिकित्सालय ले जाया गया मगर विद्युत कर्मी की गंभीर हालत को देखते हुए उन्हें हायर सेंटर रेफर कर दिया गया है।


प्राप्त जानकारी के अनुसार थराली ब्लाक के  किमनी गांव में बिजली विभाग का लाईनमैंन (संविदाकर्मी) लाइन ठीक करने बिजली के पोल पर गया था लेकिन इस दौरान अचानक यहाँ करंट दौडने लगा जिससे लाईनमेन झुलस गया। स्थानीय लोगों द्वारा आनन फनन में  सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र थराली में लाया गया, जिसके बाद प्राथमिक उपचार के बाद उक्त कर्मी को  हायर सेंटर रेफर किया गया है। 


उधर  विजली कर्मी के पिता ने  विजली विभाग और सब स्टेशन में तैनात कर्मियों पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए कहा  कि पहले भी  इस तरह की लापरवाही के कारण कई लाइन मैन के साथ इस तरह की घटनाएं हो चुकी हैं बावजूद विजली विभाग होश में नही आ रहा है। उन्होंने लापरवाह कर्मचारियों के खिलाफ सख्त कारवाही की मांग की है। जबकि बेटे के इलाज का हर्जाना खर्जाने की मांग भी की।

विद्युत विभाग के लाइनमैन पर लगा करंट, हायर सेंटर रेफर, लपरवाही से हुआ हादसा विद्युत विभाग के लाइनमैन पर लगा करंट, हायर सेंटर रेफर, लपरवाही से हुआ हादसा Reviewed by केदारखण्ड एक्सप्रेस on September 11, 2020 Rating: 5

चमोली जिले में फिर कोरोना विस्फोट, 21 निकले कोरोना पॉजिटिव



चमोली जिले में फिर कोरोना विस्फोट, 21 निकले कोरोना पॉजिटिव

सन्दीप बर्त्वाल/ केदारखण्ड एक्सप्रेस 

 Chamoli।जनपद चमोली में गुरूवार को 21 लोगों की रिपोर्ट कोरोना पाॅजिटिव मिली। इसमें 5 केस गोपेश्वर में, 4 जोशीमठ, 3 देवाल, 2 गैरसैंण, 2 नारायणबगड तथा 2 घाट ब्लाक के मटई गांव में सामने आए। इसके अलावा एक केस चमोली में, एक थराली ब्लाक के सोना गांव तथा एक गौचर फेसलिटी में रह रहे युवक की रिपोर्ट भी पाॅजिटिव मिली। स्वास्थ्य टीम ने सभी संक्रमितों को कोविड अस्पताल में भर्ती कर दिया है। चमोली जिले में अब तक 487 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हुए है। हालांकि इसमें से 326 स्वस्थ्य हो चुके है।


कोविड संक्रमण की रोकथाम को लेकर जिला प्रशासन सभी जरूरी कदम उठा रहा है। जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया के निर्देशों पर सैंपल जांच का दायरा बढा दिया गया है। गोपेश्वर नगर के मुख्य बाजार में गुरूवार को सभी दुकानदारों एवं उनके सहायकों के सैंपल लिए जा रहे है। संदिग्ध व्यक्तियों के सैंपल जांच के लिए भेजे जा रहे है। गुरूवार को 266 संदिग्ध व्यक्तियों के सैंपल टेस्ट के लिए भेजे जा चुके है। जिले से अभी तक 16110 व्यक्तियों के सैंपल टेस्ट के लिए भेजे जा चुके है जिसमें से 14527 सैंपल की रिपोर्ट नेगेटिव तथा 487 की रिपोर्ट पाॅजिटिव मिली है। जबकि 631 सैंपल की रिपोर्ट आनी बाकी है। कोविड संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए जिला प्रशासन की पूरी टीम जुटी है। जिले की प्रवेश सीमा पर बाहर से आने वाले सभी व्यक्तियों का ट्रू-नेट मशीन टेस्ट एवं एन्टिजन टेस्ट भी किया जा रहा है।


कोविड संक्रमण से बचाव के दृष्टिगत बाहरी प्रदेशों से आए 58 प्रवासी अभी फेसलिटी क्वारेन्टाइन में चल रहे है। मेडिकल टीम फेसलिटी क्वारंन्टीन में ठहराए गए लोगों की रेग्यूलर जाॅच कर रही है। इसके अलावा 1042 प्रवासियों को होम क्वारंन्टीन किया गया है। होम क्वारंन्टीन लोगों के मेडिकल जांच के लिए गठित 23 मोबाइल चिकित्सा टीमें गांवों में घर-घर जाकर होम क्वारंटीन में रह रहे लोगों का रेग्यूलर चैकअप कर रही हैं। इसके अलावा आशा के माध्यम से भी होम क्वारंटीन लोगों की नियमित स्वास्थ्य जांच की जा रही है।

जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने सभी प्रवासियों को क्वारंटीन नियमों का पूरी तरह से पालन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए है। वही शासकीय कार्मिकों के माध्यम से क्वारंटीन लोगांे पर निरतंर निगरानी रखते हुए नियमों का उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों के विरूद्व कार्यवाही भी की जा रही है।


जिले में कोविड नियमों का उल्लंघन करने पर डीएम एक्ट के तहत 35 एफआईआर, महामारी अधिनियम के तहत 675, सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने पर 02, सीआरपीसी-151 के तहत 66, डीएम एक्ट के तहत गिरफ्तारियां 62, महामारी अधिनियम के तहत गिरफ्तरियां 9, सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने पर गिरफ्तारियां 1, पुलिस एक्ट के तहत 1852 लोगों के खिलाफ मामले दर्ज किए जा चुके है। इसके आलावा 2661 चालान और 95 वाहनों को सीज किया गया है।


जिले में आवश्यक सेवाओं के तहत खाद्यन्न की आपूर्ति सुचारू बनी हुई है। स्टाॅक में गेहूं 1490.16 कुन्तल, चावल 3144.41 कुन्तल, मसूर दाल 46.10 कुन्तल, चना दाल 73.83 कुन्तल, चीनी 118.38 कुन्तल, पीएम गरीब कल्याण चावल 3148.87 कुन्तल, पीएम गरीब कल्याण गेंहू 6797.58 कुन्तल व दाल 485.62 कुन्तल तथा घरेलू गैस के 2211 गैस सिलेण्डर अवशेष है। 

चमोली जिले में फिर कोरोना विस्फोट, 21 निकले कोरोना पॉजिटिव चमोली जिले में फिर कोरोना विस्फोट, 21 निकले कोरोना पॉजिटिव Reviewed by केदारखण्ड एक्सप्रेस on September 10, 2020 Rating: 5
Powered by Blogger.